जिस अधिकारी ने किया था योगी आदित्यनाथ को गिरफ्तार, उसी को सौंपी बड़ी जिम्मेदारी

0
17

उत्तर प्रदेश में नौकरशाहों, अधिकारियों और कर्मचारियों के प्रमोशन, डिमोशन से लेकर तबादले काफी अधिक आम बात है. मगर कई दफा कुछ एक किस्से ऐसे भी देखने में आते रहते है जो अपने आप में चर्चा का कारण बनते रहे है और लोगो के इसको लेकर के अपने अपने विचार भी रहते है. यदि हम अभी की बात करे तो हाल ही में एक बड़ा बदलाव देखने को मिला है जिसने साबित किया है कि योगी सरकार में पिछले कर्म या फिर बदलो के लिए कोई भी जगह नही है और इसके बड़े उदाहरण के रूप में देखे जा रहे है डॉक्टर हरिओम.

वर्ष 2007 में तत्कालीन सांसद योगी आदित्यनाथ को भेजा था जेल
ये बात अब से तकरीबन डेढ़ दशक पहले की है जब गोरखपुर में काफी अधिक साम्प्रदायिक माहौल हो रखा था और इन सबके बीच में जहाँ तत्कालीन सांसद योगी आदित्यनाथ ने धरने का ऐलान कर दिया था वही उस समय पर गोरखपुर के डीएम डॉक्टर हरिओम के ऊपर क्षेत्र में शान्ति व्यवस्था बनाये रखने की जिम्मेदारी थी. इसी के चलते हुए उन्होंने योगी आदित्यनाथ जो उस समय के एमपी थे उन्हें गिरफ्तार करवा दिया.

बात सिर्फ यही पर ही नही रूकती है. योगी आदित्यनाथ को अरेस्ट करने के बाद में पूरे 11 दिनों के लिए जेल में भी रखा गया और कई कहानियाँ बाहर आयी. इसके बाद में सदन में बोलते समय उस से में योगी काफी अधिक भावुक हो गये थे क्योंकि उनके अनुसार उन्हें उनके कई अधिकारों से वंचित किया गया और धरना नही देने गया था.

अब उन्ही डॉक्टर हरिओम को बनाया वेलफेयर विभाग में प्रिंसिपल सेक्रेटरी
अभी हाल ही में यूपी सरकार में कई बड़े फेरबदल किये गये है और इसमें आईएएस अधिकारी डॉक्टर हरिओम को प्रदेश कल्याण विभाग में प्रिंसिपल सेक्रेटरी का पद सौंपा गया है जो अपने आप में काफी मजबूत व प्रमोशनल पद के जैसा ही है. कहा जा रहा है कि योगी के सीएम बनने के बाद में ये अधिकारी खुद उनसे जाकर के मिले थे और पुरानी बातो को पीछे छोड़ते हुए अपने सम्बन्ध सीएम के साथ में सुधार लिये थे.

मगर फिर भी खुदको जेल में भिजवा देने वाले व्यक्ति को इतना अधिक महत्त्वपूर्ण पद देकर के योगी आदित्यनाथ कम से कम अपने आपको एक साधू तो साबित कर ही दे रहे है जिन्हें अपने अपमान, सम्मान और भूत में हुए कार्यो का कोई भी किंचित मात्र भी शोक या फिर ख़ुशी नही है. खैर अब कार्य तो आगे ही देखे जा सकेंगे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here