मेरे लिये पार्टी से ज्यादा जरूरी धर्म की रक्षा जरूरी, भाजपा से निकाले जाने के बाद बोले सिंह

0
21

भाजपा में अभी के इन दिनों में काफी अधिक कोहराम मचा हुआ है और कोई भी समझ नही पा रहा है कि इसे किस तरह से हेंडल किया जाए. अगर आपको मालूम हो तो हैदराबाद से भारतीय जनता पार्टी के विधायक टी राजा के एक  बयान को लेकर के इन दिनों में विवाद खड़े होते हुए देखा गया है और इसके कारण से विपक्षी पार्टियों को आनंद लेने का मौक़ा जरुर मिल गया है लेकिन पहले पूरा मामला जान लेते है कि आखिर असल में हुआ क्या है जिसके कारण से इतना बवाल हो गया है.

मुस्लिम धर्म को लेकर टिप्पणी करने के आरोप, गिरफ्तारी के बाद छूटे राजा
अभी हाल ही में हैदराबाद के विधायक ने एक टिप्पणी की थी जिसमे उन्होंने कथित तौर पर इस्लाम को लेकर के कुछ बाते कही हालांकि उन्होंने कहा कि उन्होंने ऐसा कहा ही नही है जैसा समझा जा रहा है लेकिन फिर भी उसके खिलाफ प्रदर्शन हुए और उन्हें गिरफ्तार भी कर लिया गया. इसके बाद में कुछ ही घंटो में तथ्यों के आधार पर उन्हें जमानत भी मिल गयी और बाहर भी आ गये.

निष्कासन के बाद बोले, पार्टी से ज्यादा धर्म की रक्षा जरूरी
जिस तरह की गहमागहमी हुई उसके बाद में जल्दबाजी में भाजपा ने भी उन्हें जल्दबाजी के बीच पार्टी से बाहर निकाल दिया और ये अपने आप में एक बड़ी खबर बनी. मगर जब राजा सिंह बाहर आये और उन्हें इस बारे में पता चला तो उन्होंने कहा कोई बात नही हमारे लिए पार्टी से ज्यादा जरुरी है धर्म की रक्षा करना और हम करते रहेंगे.

हालांकि आगे उन्होंने ये भी कहा कि चाहे भाजपा ने हमें निकाल दिया हो लेकिन मैं फिर भी मोदी और शाह का पैदल सैनिक बनकर के साथ में चलता रहूँगा और उनका वफादार सैनिक बनकर के रहूँगा. इसके जरिये वो खुदको पार्टी से निकाले जाने पर कोई भी मलाल तो नही दर्शा रहे है लेकिन खुदको प्रधानमंत्री मोदी से भी जोड़कर के रखना चाह रहे है.

कही न कही ये जो कुछ भी घटित हुआ है या फिर दुसरे शब्दों में कहे देखने में आया है उसके कारण से राजा सिंह देश भर में चर्चा के पात्र बन गये है. कई लोग इसे उनकी फ्रीडम ऑफ स्पीच बता रहे है तो बड़ी संख्या में उन्हें विरोध का भी सामना करना पड़ा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here