अडानी द्वारा एनडीटीवी खरीदे जाने के बाद में रवीश कुमार ने दी बड़ी प्रतिक्रिया

0
30

अभी फिलहाल में ही मीडिया जगत में एक बहुत ही अधिक बड़ा बदलाव देखने में आया है जिसकी उम्मीद किसी ने भी की नही थी. सरकार के विरोध में मुखर होकर के बोलने वाले काफी अधिक बड़े चैनल एनडीटीवी को खरीद लिया गया और इसके बारे में अधिग्रहण को लेकर के खबरे आदि अचानक से ही बाहर आयी है जिसके बारे में कुछ समय पहले तक तो कल्पना कर पाना भी मुश्किल सा ही लग रहा था. खैर अभी पहले तो हम अधिग्रहण से जुडी हुई जानकारी देख लेते है जो अपने आप में महत्त्वपूर्ण है.

29.18 फीसदी हिस्सा खरीद सबसे बड़े स्टेकहोल्डर बने अडानी
दरअसल हाल ही में अडानी समूह की कम्पनी ने 29 प्रतिशत से भी अधिक हिस्से को वीपीसीएल से खरीद लिया है जिसके पास में चैनल की कम्पनी के शेयर गिरवी रखे हुए थे लेकिन ये लोग उसे वापिस लेने के लिए कीमत नही चुका पा रहे थे. अभी बात यही पर नही रूकती है बल्कि अडानी इस चैनल में 26 फीसदी और हिस्सा खरीदने जा रहे है और वो इसमें मालिकाना हक़ हासिल कर लेंगे. इसे लेकर के उनकी इच्छा स्पष्ट नजर आती है.

रवीश बोले, इस्तीफ़ा नही देंगे
जब अडानी समूह ने इस चैनल में बड़ा हिस्सा खरीद लिया तो फिर कई जगहों पर खबरे उड़ने लगी कि रवीश बाबू जो एनडीटीवी के सम्पादक है वो इस्तीफा देने जा रहे है, लेकिन ऐसा हुआ नही. इन सभी खबरों का खंडन करते हुए उन्होंने कहा कि वो ऐसा कुछ भी नही कर रहे है.

अपने उसी अंदाज में बयान देते हुए रवीश ने कहा ‘मानने जनता मेरे इस्तीफे की बात बिलकुल वैसी ही अफवाह है जैसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मुझे इंटरव्यू देने के लिए तैयार हो गये हो या फिर अक्षय कुमार बम्बईया  आम लेकर के मेरा गेट पर इन्तजार कर रहे है.’ अब फिलहाल के लिए तो रवीश इस्तीफ़ा नही दे रहे है लेकिन क्या वो कम्पनी के नए मालिक की पालिसी के हिसाब से कर पाएंगे? ये सवाल अपने आप में काफी अधिक महत्त्वपूर्ण होगा.

अभी फ़िलहाल के लीये अडानी समूह ने अपनी इच्छा साफ़ कर दी है कि वो मालिकाना हक लेना चाहते है और इसके लिए वो और पैसा बहाने के लिए भी तैयार है. जिसके चलते हुए काफी कुछ बड़े बदलाव है जो देखने को मिल जाने वाले है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here