भारतीय जनता पार्टी में बड़ा उलटफेर, नितिन गडकरी संसदीय बोर्ड से बाहर

0
23

भारतीय जनता पार्टी समय समाय पर अपने संगठन में बदलाव करती रहती है और ये अपने आप में बदलाव की प्रक्रिया का हिस्सा होता है. कही न कही ये आवश्यक भी माना जाता है ताकि लोकतांत्रिक प्रक्रियाओं को अपने हिसाब से सहेजा जा सके मगर हाल ही में कुछ बड़े बदलाव हुए है जिसके कारण से पार्टी का भविष्य पूर्ण रूप से निर्धारित होगा. भाजपा की संसदीय बोर्ड की समिति में जो भी मेंबर बैठते है उनमे कुछ नए लोगो को जगह दी गयी है और कई पुराने जाने माने चेहरे अब बाहर कर दिए गये है.

गडकरी और शिवराज सिंह चौहान जैसे कई बड़े चेहरे हुए बाहर
अभी भाजपा की मूल रूप से सबसे अधिक शक्तिशाली समिति में कई बड़े चेहरे को बाहर होना पड़ा है यानी एक तरह से उनकी पार्टी की ताकत कम हो गयी है, इनमे केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी, मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, शाहनवाज हुसैन और जूएल राव को भी इस बोर्ड से बहार कर दिया गया है जो अपने आप में थोडा चकित करता है क्योंकि ये सब पार्टी के प्रमुख चेहरे है.

मिले बोर्ड को नए चेहरे, मोदी शाह और राजनाथ बने रहेंगे
अगर अभी वर्तमान में भाजपा के संसदीय बोर्ड की बात करे तो इसमें अध्यक्ष जेपी नड्डा, गृह मंत्री शाह, प्रधानमंत्री मोदी, रक्षामंत्री राजनाथ सिंह, बी एस येदियुरप्पा, सर्वानंद सोनोवाल, के लक्ष्मण, इकबाल सिंह लालपुरा, सुधा यादव, सत्यनारायण जटिया और बीएल संतोष रहेंगे. इनमे लगभग आधा बोर्ड अभी हाल ही में नयापन लेकर के आया है.

हालांकि लोग इस बात को लेकर के अचरज कर रहे है कि संगठन में इतना बेहतर काम करने और बतौर केबिनेट मंत्री भी काफी अच्छा काम करने के बाद में भी नितिन गडकरी को संसदीय बोर्ड से बाहर कर दिया गया, जबकि उनकी लोकप्रियता, जमीनी पकड और बाकी कई चीजे बाकी कई नेताओं की तुलना में अधिक बेहतर तौर पर आंकी जाती रही है.

आपको बता दे भारतीय जनता पार्टी में संसदीय बोर्ड सबसे बड़ी शक्तिशाली और सुप्रीम संस्था है जो पार्टी के सबसे अहम फैसले लेती है. किस राज्य में कौन चेहरा बनेगा या मुख्यमंत्री पद पर बैठेगा ये बात भी इसी बोर्ड से ही तय होता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here