चीन के पास बहुत पैसा , लेकिन फिर भी चुराता है मछलियाँ

0
1293

आज विश्व की सबसे टॉप के अमीर जीडीपी वाले देशो में से जिनका नाम आता है उनमे चीन का नाम हमेशा ही शुमार मिलता है और ये बात हम लगभग हर जगह पर देखते भी रहे है. मगर सही मायनों में अगर हम लोग बात करते है तो आज की तारीख में चीन जो कुछ भी कर रहा है उसके कारण से न सिर्फ उसकी बदनामी हो रही है बल्कि साथ ही साथ में आस पड़ोस के देशो के साथ में उसके सम्बन्ध जो पहले से ही खराब स्थिति में है वो और भी ज्यादा बदतर हो सकते है.

पडोसी देशो के समुद्री क्षेत्रो से मछलियाँ चुराने के आरोप
अभी हाल ही में कई रिपोर्ट्स सामने आयी है जिसके अनुसार चीन के मछुआरे जो एक तरह के मिलिशिया का रूप ले चुके है और इन्हें अपनी सेना से भी सपोर्ट मिलता है ये लोग पड़ोसी देशो जैसे फिलिपीन्स समेत कई छोटे छोटे देशो के समुद्री क्षेत्रो में घुस जाते है और वहां पर फिशिंग करने वाले मछुआरो को चेतावनी देकर पीछे धकेलते है. इसके बाद में उस जगह पर मौजूद मछलियाँ लेकर वापिस भाग जाते है.

खुद कई बड़े संगठन और सरकारे चीन के ऊपर ऐसा करने के आरोप लगा चुकी है और इसके कारण से समुदी क्षेत्रो में जो चीन के आस पास के है वहां पर मछलियों की भारी कमी पड़ने लगी है क्योंकि ये देश जगह जगह पर मछलियाँ ले रहा है और अपने देश में सस्ते में भोजन सप्लाई के लिए उपयोग कर रहा है.

अपनी भारी आबादी का भरण पोषण करने के लिए कर रहा सब
दरअसल अभी भी चीन की आबादी करीबन 150 करोड़ के आस पास है और यहाँ पर लोगो का पेट भरने के लिये अनाज व मांसाहार का सहारा लिया जाता है लेकिन रेगुलर बेस पर इतना सब कुछ पूरा करने के लिए चीन समुद्र पर काफी अधिक निर्भर हो रखा है. आज विश्व 144 मिलियन टन समुद्री भोजन खाया जाता है और उसमे से 45 प्रतिशत अकेले चीन ही खा रहा है. ये अपने आप में बहुत ही अधिक बड़ा आंकड़ा है.

अब ऐसे में एक बात तो सही से समझ भी आ ही जाती है कि जो कुछ भी इन दिनों में घटित हो रहा है उसमे चीन अपनी कमियों को छुपाने के लिए इस तरह की हरकते कर रहा है, मगर आज के विश्व में चीजे कभी न कभी और कही से उजागर तो हो ही जाती है और ये हम देख भी रहे है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here