जाट हुए खुश, राजस्थान में भाजपा को दिला सकते है जीत

0
1592

भारतीय जनता पार्टी अपने सत्ता के समीकरण साधने में हमेशा से ही काफी अधिक होशियार व तेज मानी जाती रही है इस बात में कोई भी संशय नही है. अगर हम अभी की बात करते है तो भाजपा हर वोट बैंक को अपने विभिन्न पैंतरों की मदद से अपनी साइड कर ही लेती है और चाहे इस बात को कितना ही नकारा जाए कि अब जातिवाद राजनीति में अधिक महत्त्व नही रखता, लेकिन इसके मायने नतीजो में हमेशा दिख ही जाते है और अभी हाल ही में भाजपा ने इसी पर एक बड़ा दांव खेला है जो काफी बड़ा गेम चेंजर हो सकता है.

जगदीप धनखड़ बने देश के उपराष्ट्रपति, जाट समुदाय उत्साहित
राजस्थान के चुनावों में अब एक वर्ष से भी कम का समय रहते हुए नजर आ रहा है और इससे ठीक पहले यहाँ पर रहने वाला ‘जाट’ समुदाय भाजपा से काफी खुश नजर आ रहा है, क्योंकि इनके समुदाय से आने वाले झुंझुनू के लोकप्रिय नेता जगदीप धनखड़ देश के उपराष्ट्रपति बन चुके है और ये काफी बड़ी खबर है.

इसका महत्त्व कुछ इस तरह से देखा जा सकता है कि सोशल मीडिया पर नजर आने वाले ग्रुप और व्हाट्स एप्प ग्रुप्स में इस समुदाय से जुड़े लोगो में जगदीप धनखड़ की तस्वीरे वायरल हो रही है और उन्हें देश के दुसरे सबसे सर्वोच्च पद पर देखकर के लोग काफी उत्साहित हो रहे है, इससे भाजपा ने इस समुदाय में अपनी एक सॉफ्ट और बेहतर इमेज अभी के लिए जाटो के बीच में जरुर बना ली है.

राजस्थान की आबादी का बड़ा भाग बनाते है जाट
आज की तारीख में अगर बात करे जातीय समुदायों की तो राजस्थान के चुनावों में जाटो की काफी अहम भूमिका है. ये न सिर्फ राज्य की आबादी का 12 प्रतिशत बनाते है बल्कि 50 से भी अधिक विधानसभा की सीटो में इनकी भूमिका बड़ी ही निर्णायक होती है.

हालांकि अभी भी भाजपा को जीतने के लिए अन्य समुदायों राजपूत, दलित और गुर्जर समुदाय में अपनी पैठ बढानी पड़ेगी. हालांकि ब्राह्मण और बनिया समुदाय लम्बे समय से राजस्थान में भाजपा का कोर वोटर माना जाता रहा है मगर आने वाले वक्त का कुछ कहा नही जा सकता.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here