मोदी सरकार के इस कदम से जनता में भारी नाराजगी, क्या फैसला वापिस लेंगे मोदी

0
2448

अभी वर्तमान में प्रधानमंत्री मोदी की लोकप्रियता काफी अधिक बढ़ी है और हम देख ही रहे है कि वो केंद्र के साथ में कई राज्यों के चुनाव भी लगातार जीत ही रहे है. मगर जब बात आती है आम आदमी की जरुरतो की तो फिर वो सबसे पहले प्राथमिकता पर रहता है और ये बात हर कोई बेहतर तरीके से जानता है. अभी के दिनों में इसी के कारण से चीजे थोड़ी हाथ से  बाहर जाते हुए नजर आ रही है और आम लोग और जो ख़ास तौर पर शहरो में रहते है उनके साथ समस्या बढ़ सकती है.

पैकेज्ड जरूरी सामानों जैसे दूध दही आदि पर लगेगा जीएसटी, देना पड़ेगा सरकार को टैक्स
अब तक आम आदमी की जरूरी चीजे जैसे दूध, दही, छाछ, अनाज आदि किसी भी तरीके से खरीदा जाता था तो उस पर टैक्स नही लगता था क्योंकि सरकार मानती थी कि ये जरूरत की चीजे है और इन पर टैक्स लगाने से आम आदमी के लिए बोझ बढ़ सकता है लेकिन अब इस मामले में भारत सरकार की नीतियां बदलते हुए नजर आ रही है और जरूरत की चीजो पर भी टैक्स चुकाना पड़ेगा.

नयी नीति के तहत दूध, दही, पनीर, गुड़, आट, शहद समेत कई खाध्य पदार्थ जो  बाजार में किराने पर पैकिंग में मिलते है उनके ऊपर 5 प्रतिशत जीएसटी लगा दिया गया है. इससे न सिर्फ ये प्रोडक्ट बल्कि इनसे बनने वाले कई और आइटम जैसे मिठाइयाँ, आइसक्रीम आदि भी महँगी हो सकती है और आम आदमी की जेब का खर्च बढ़ने ही वाला है.

सोलर वाटर हीटर पर भी बढ़ा टैक्स
सरकार से वो लोग भी काफी नाराज नजर आ रहे है जो सौर ऊर्जा की तरफ स्विच करने की कोशिश कर रहे है. अभी हाल ही में सोलर वाटर हीटर का टैक्स भी 5 से बढाकर के 12 प्रतिशत कर दिद्य गया है जिससे सौर ऊर्जा को भविष्य के रूप में देखने वालो के ऊपर काफी बोझ बढ़ने वाला है.

खैर बड़ी संख्या में ट्रेड असोशिएशन सरकार से इस फैसले को वापिस लेने की अपील कर रहे है ताकि लोगो के घरेलू सामानों की कीमत अचानक से इस तरह से न बढ़ जाये कि गरीब व निचले मध्यम वर्ग को बजट बनाने में भी दिक्कते आने लग जाए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here