सुप्रीम कोर्ट के नुपूर शर्मा से माफ़ी वाले बयान पर कानून मंत्री ने दिया बड़ा बयान

0
5266

अभी फिलहाल में देश में नुपूर शर्मा का मामला काफी अधिक गहराया हुआ है और इसके कारण से देश की सर्वोच्च संस्था यानी सुप्रीम कोर्ट भी सवालों के घेरे में आ  गयी है क्योंकि उनके एक जज जस्टिस सूर्यकान्त ने देश में चल रहे असहिष्णु माहौल के लिए अकेली नुपूर शर्मा को जिम्मेदार ठहराते हुए उन्हें देश से टीवी पर आकर के माफ़ी मांगने की सलाह तक दे डाली. इसके कारण से हिन्दू समुदाय से जुड़े लोग और भाजपा समर्थक काफी अधिक नाराज हुए और इसी बीच अब सरकार भी इस पर रियेक्ट कर रही है.

क़ानून मंत्री बोले मुझे कई मेसेज आ रहे, उचित मंच पर होगी चर्चा
सुप्रीम कोर्ट के नुपूर शर्मा पर किये गये मौखिक अवलोकन पर अभी हाल ही में क़ानून मंत्री किरण रिरिजू ने भी टिप्पणी की है. उन्होंने कहा कि इस मुद्दे के ऊपर प्रतिक्रिया देने के लिए मुझे हर जगह से मेसेज आ रहे है और उचित मंच के ऊपर हम इसके ऊपर चर्चा भी करेंगे लेकिन क्योंकि ये कोर्ट का फैसला नही है तो ऐसे में टिप्पणी करना ठीक नही होगा.

क़ानून मंत्री ने आगे ये भी कहा कि मैं एक क़ानून मंत्री हूँ और सुप्रीम कोर्ट के बेंच की किसी टिप्पणी को लेकर मेरा कुछ भी कहना उचित नही होगा. अगर मुझे उनका फैसला पसंद नही या फिर टिप्पणी सही नही लगा तो भी मैं कुछ कहना नही चाहूंगा. रिरिजू ने स्पष्ट किया कि वो आपत्ति रखते भी है तो भी क़ानून मंत्री होते हुए भी सुप्रीम कोर्ट के खिलाफ कुछ बोल नही सकते है.

पूर्व न्यायाधीश ने सुनायी खूब खरी खोटी
जब पूर्व न्यायाधीश जस्टिस एस एन ढींगरा से इस पर प्रतिक्रिया देने के लिए कहा गया था तो उन्होंने रिएक्शन देते हुए इसे पूरे तरीके से गलत और गैर जरूरी बता दिया. उन्होंने कहा कि अगर हिम्मत है तो ये यही बाते अपने जजमेंट में क्यों लिखकर के नही दे देते है?

उन्होंने इस तरह की टिप्पणी करने वाले जजों को राजनीति में चले जाने की सलाह तक दे डाली क्योंकि सुप्रीम कोर्ट कोई भी भाषण देने की जगह नही है. अब ऐसे में आगे सुप्रीम कोर्ट के जज क्या प्रतिक्रिया देते है ये देखने वाली बात होगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here