एकनाथ शिंदे को मुख्यमंत्री बनाये जाने के बाद उद्धव ठाकरे बोले, अगर बीजेपी पहले

0
3144

आज महाराष्ट्र के नए मुख्यमंत्री का ताज एकनाथ शिंदे के सर पर रख दिया गया है और वो काफी अधिक पोपुलर नेता के तौर पर अपनी पहचान स्थापित भी कर चुके है. कही न कही इसके कारण से वो बहुत ही अधिक बड़े स्तर के राष्ट्रीय पटल पर भी छा चुके है. इसके कारण से ये बात भी उजागर हो गयी कि उद्धव ठाकरे की पकड़ अपनी ही पार्टी पर काफी कमजोर हो चुकी है और शिंदे के सीएम बनने के बाद में उनकी तरफ से रिएक्शन आना तो अपने आप में स्वाभाविक है.

अगर भाजपा पहले ढाई साल के लिए मान जाती, तो कोई एमवीए नही होता
अब हाल ही में पूर्व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से जब बार बार प्रतिक्रिया मांगी गयी तो वो काफी अधिक सॉफ्ट से नजर आये और उन्होंने बयान देते हुए कहा कि अगर भारतीय जनता पार्टी चुनाव के बाद में ढाई साल के लिए शिवसेना के मुख्यमंत्री के लिए मान जाती तो फिर कोई महाविकास अघाड़ी सरकार बनने ही नही वाली थी. उन्होंने ऐसा किया इसलिए हमें भी कदम उठाना पड़ा. मैंने खुद अमित शाह से पहले ये बात कही थी.

जिस तरह से ये सरकार बनाई गयी है और जिस कथित शिवसैनिक को मुख्यमंत्री बनाया गया है मैंने भी अमित शाह से वही बात कही थी. ये सब कुछ सम्मान भरे तरीके से भी हो सकता था. उस वक्त शिवसेना आपके साथ में आधिकारिक रूप से थी लेकिन ये जो आपने बनाया है वो शिवसेना का मुख्यमंत्री नही है.

सामना में भी जताई नाराजगी
अपने मुखपत्र सामना में भी शिवसेना ने सम्पादकीय में देवेन्द्र फडनवीस और एकनाथ शिंदे को जमकर के निशाने पर लिया और कहा कि जो कभी एक टाइम में उद्धव ठाकरे की जय जयकार करते थे उन्होंने ही धोखा दे दिया. आज संविधान का अपमान और देश में नैतिक पतन हुआ है, जो ये रक्षक जिन्हें चुना गया वो भी बिकने को तैयार हो गये.

कुल मिलाकर के देखा जाए तो अभी के लिए शिवसेना और उद्धव ठाकरे खुद भी स्पष्ट नजर नही आ रहे है कि वो किस तरफ जाना और क्या करना चाह रहे है, क्योंकि उनके अपने ही लगभग आधे साथी दूसरी तरफ जा चुके है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here