नुपुर शर्मा के बयान के बाद कानपुर में की थी लोगो ने तोड़ फोड़, योगी सरकार ने सिखाया सबक

0
5129

अभी भाजपा की जानी मानी नेता और प्रवक्ता रह चुकी नुपुर शर्मा के एक बयान के कारण से काफी अधिक समस्याएँ पार्टी के सामने आ रही है और जाहिर तौर पर ऐसा अक्सर होने को दिख ही जाता है जब भी कोई फ्रीडम ऑफ स्पीच के तहत अपनी बातो को खुलकर के सामने रखने की कोशिश करता है. अगर हम अभी की बात करे तो नुपुर ने इस्लाम और मोहम्मद साहब से जुडी कुछ एक बाते ऐसी कह दी जिसके चलते हुए न सिर्फ मुस्लिम देश नाराज हुए बल्कि भारत में ही आपस में झगडे देखने को मिल गये.

बंद करवाने को लेकर हुआ था बवाल, आपस में हो गयी लड़ाई
कुछ मुस्लिम संगठनों ने नुपुर शर्मा के बयान से नाराज होकर के कानपुर शहर में बंदी करवाने की कोशिश की और विरोध जताने का प्रयास किया लेकिन बाकी समुदाय के लोग जिन्हें इससे कोई मतलब नही वो इसके विरोध में रहे क्योंकि अपना व्यापार कौन खराब करना चाहेगा? ऐसे में आपस में लड़ाई देखी गयी और पत्थर भी चले. इसमें पीएफआई का हाथ होने की आशंका भी जतायी जा रही है.

योगी सरकार ने सबके पोस्टर लगवा दिए, खुद ही आकर करने लगे सरेंडर
आम तौर पर इस तरह की घटनाओं के बाद में पुलिस प्रशासन किसी को पकड़ नही पाता है लेकिन योगी सरकार इस मामले में दो कदम आगे चलते हुए दिखाई पडती है. जो भी लोग इस भीड़ में शामिल थे और पत्थर चला रहे थे उनके फोटो पुलिस प्रशासन के पास में आ गये है और इनके पोस्टर बनाकर के कानपुर के गली चौराहों पर लगा दिए गये है.

इसके चलते हुए अब वो लोग जो इस घटना में शामिल थे उनके लिए घर से निकलना ही मुश्किल हो गया है और उनके पास में पुलिस स्टेशन जाकर के खुद ही सरेंडर करने के अलावा और कोई ऑप्शन बच भी नही रहा है, बस इसी कारण से कई लोगो ने खुद जाकर के स्टेशन में आत्मसमर्पण कर दिया है.

योगी सरकार और यूपी प्रशासन इसी तरह से सटीक काम करने के कारण अभी देश भर में लोकप्रिय हो चला है. आज देश के बाकी राज्यों की सरकारे भी इस तरह का मॉडल अपनाने की सोच रही है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here