बंगाल में भाजपा के साथ फिर बड़ा धोखा हो गया

0
1057

भारतीय जनता पार्टी लगभग हर राज्य में अपनी एक मजबूत पहचान बना रही है और काफी शक्ति के साथ में उभर रही है. मगर एक राज्य है जहाँ पर वो अपना जनाधार मजबूती के साथ में खड़ा रख पाने में काफी हद तक नाकाम सी ही नजर आती है और वो है बंगाल. कही न कही इसके पीछे का कारण माना जाता है कि यहाँ पर वैचारिक रूप से पार्टी से जुड़े हुए नेताओं की भारी कमी है और इस कारण से बीजेपी लगातार न सिर्फ हार देखती है बल्कि यहाँ पर धोखे भी काफी हो जाते है.

भाजपा में आकर जीते थे सांसद अर्जुन सिंह, अब चले गये टीएमसी में
पिछले कुछ वर्षो में अर्जुन सिंह की छवि लोगो के बीच में काफी दबंग किस्म की बनी  हुई थी और इस कारण से आम आदमी का वोट उनसे काफी दूर होते हुए दिखा मगर तभी उन्होंने भाजपा ज्वाइन कर ली. इसी के चलते उनका अपना वोटर बेस तो उनके साथ बना रहा और साथ में बीजेपी का वोट भी उन्हें मिल गया जिसके चलते हुए वो भाजपा से सांसद बन गये.

अर्जुन सिंह ने न सिर्फ वोट जीता बल्कि वो राष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान बना पाने में कामयाब हो गये और आने वाले वक्त में उन्हें मंत्री मंडल का भी दावेदार माना जाने लगा था लेकिन ये सब छोड़ते हुए अब वो फिर से ममता बनर्जी की पार्टी में चले गये है. इसे एक तरह से उनकी घर वापसी कहकर के संबोधित किया जा रहा है.

बीजेपी बंगाल में अपने ही नेता बचा पाने में नाकाम
भाजपा को अगर हम देखते है तो विधानसभा के चुनावों में हारने के बाद में वो अपने कई ख़ास नेताओं को खो चुकी है और बाबुल सुप्रियो उनमे सबसे बड़ा नाम रहा है. इन नेताओं पर भाजपा ने काफी भरोसा किया काफी फंड बहाया और आपना राजदार भी बनाया लेकिन फिर भी ये वापिस लौट गये.

ऐसे में भाजपा अपने आप में नयी स्ट्रेटजी विकसित करने की कोशिश कर रही है जिसके तहत वो वैचारिक रूप से अपने साथ में नेताओं को आगे करेगी ताकि किसी भी स्थिति में वो उन्हें छोड़कर के न जाए, हालांकि विपक्ष का बंगाल में टिके रहना काफी मुश्किल काम होता है ये बात किसी से छुपी हुई नही है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here