बघेल और कमलनाथ ने दी सोनिया को सलाह, अगर फिर से जीतना है तो करना पड़ेगा एक काम

0
1907

कांग्रेस पार्टी अभी के इन दिनों में बहुत ही अधिक बुरे दौर से होकर के गुजर रही है. एक तरफ केंद्र में तो लगातार दो बार चुनाव हार ही चुकी है और फिर ऊपर से एक के बाद में एक राज्य भी पार्टी गंवाती चली जा रही है. इसके कारण से लोग जाहिर तौर पर चिंतित तो होने ही है और इसी पूरे मामले को समझने के लिए कि किस तरह से पार्टी को फिर से मुख्य नक़्शे पर लाया जाए उसके लिए राजस्थान के उदयपुर शहर में एक चिंतन शिविर का आयोजन किया गया जिसमे कांग्रेस के बड़े बड़े नेता शामिल हुए.

भूपेश बघेल और कमलनाथ की सलाह, हिन्दुओ के कार्यक्रम में शामिल हो
कांग्रेस नेता एक तरफ जहाँ कांग्रेस का आलाकमान इस बात का खुदको पक्षधर बता रहा था कि हमें हर धर्म से दूरी बनाकर के चलनी है और एजेंडे पर बने रहना है वही दूसरी तरफ छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और मध्य प्रदेश के पूर्व सीएम कमलनाथ ने इसके उलट बात बोली है. उन्होंने कहा कि नेताओं को हिन्दुओ के कार्यक्रमों और आयोजनों में जाना चाहिए.

उन्होंने कहा कि अगर कांग्रेस नेता ऐसा करते है तो फिर हमें सॉफ्ट हिंदुत्व का फायदा मिलेगा और कही न कही लाभ तो इसका बड़े स्तर पर मिलने ही वाला है. खैर अब जो भी है इस तरह की प्लानिंग के साथ में पार्टी आगे बढती है तो हो सकता है इन्हें कुछ हद तक लाभ मिल भी जाये, मगर चांस तो इसके भी कम ही लग रहे है.

आलाकमान लगा रहा राज्य के नेताओं से उम्मीदे
अभी कांग्रेस पार्टी का आलाकमान यानी गांधी परिवार कही न कही गांधी परिवार अपने कई राज्य स्तर के वरिष्ठ नेताओं जैसे अशोक गहलोत, भूपेश बघेल, कमलनाथ आदि से काफी अधिक उम्मीद लगा रहा है और इनके साथ में मिलकर के मंथन करने के मकसद से ही सब उदयपुर में एक साथ इकट्ठा हुए थे.

अब इस तरह के प्रयासों के परिणाम क्या फलीभूत हो पाते है या फिर पार्टी की हालत पहले की ही तरह बनी रहती है, ये तो आने वाले चुनावी नतीजो में साफ़ हो ही जाएगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here