दिल्ली से मुगलों को मिटाएगी भाजपा, जल्द आ सकता है बड़ा फैसला

0
1611

आज देश की राजधानी दिल्ली है और जब भी बात आती है सबसे पहले विश्व में देश को प्रस्तुत करने की तो कही न कही राजधानी का जिक्र ही सबसे पहले होता है. मगर यहाँ पर कुछ एक चीजे है जो अपने आप में लोगो को पसंद नही आती है और इसे लोग अपनी संस्कृति के हिसाब से ढालने की कोशिश कर रहे है. हम बात कर रहे है मुगलों की उन निशानियो की जो कुछ लोगो को पसंद आती है तो कई लोग है जो इसके विरोध में भी खड़े हुए नजर आते है.

भाजपा कर रही अब सडको के नाम बदलने की कोशिश, माननीयो के नाम पर रखे जायेंगे
हाल ही में दिल्ली बीजेपी ने एनडीएमसी को एक पत्र लिखा है और इसमें राजधानी की मुख्य सडको के नाम बदलने की सिफारिश की है. दिल्ली के भाजपा प्रदेश अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने इस पर टिप्पणी करते हुए कहा कि दिल्ली में कई सडको के नाम विदेशी आक्रान्ताओं के जैसे अकबर और शाहजहाँ के नाम पर है जिनके नाम बदलने के लिए हमने एनडीएमसी को पत्र भी लिखा है.

अपनी बात को आगे बढाते हुए आदेश गुप्ता कहते है कि हमारे देश के लोगो के लिए अब्दुल कलाम, गुरु गोविन्द सिंह और सीडीएस विपिन रावत जैसे लोग आदर्श है यानी उनके कहने का अर्थ यही रहा है कि मुगलों के नाम से बदलकर के इनके नाम पर देश की राजधानी की सडको के नाम किये जाने चाहिए. भाजपा के पास में वर्तमान में काफी  ताकत है तो वो ऐसा कर भी सकती है.

पहले भी बदले जा चुके है नाम
देश की राजधानी में तो ये अभी शुरू हुआ है लेकिन बीते कुछ वर्षो में नाम बदलने की प्रथा काफी जोरो पर रही है जब गुडगाँव का नाम गुरुग्राम, इलाहाबाद का नाम प्रयागराज और मुगलसराय स्टेशन का नाम बदलकर के दीनदयाल उपाध्याय स्टेशन कर दिया गया था.

कुल मिलाकर के एक चीज नजर आती है कि सरकारे चाहती है देश के प्रमुख स्थल उन नामो पर हो जो अपने आप में देश के लिए कुछ करके गये है और उनका नाम लेने में भी कही न कही लोगो को गर्व महसूस होता हो.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here