ओवैसी हुए जहांगीरपुरी में बुलडोजर एक्शन से दुखी, हिदायत देते हुए बोले याद रखना बीजेपी को..

0
2240

अभी जहांगीरपुरी का मामला पूरे देश में छाया हुआ है और जिस तरह की घटनाएं घटित होते हुए हम लोगो ने देखी है उसके बाद में कही न कही इसमें राष्ट्रीय मीडिया भी अपने से ही इन्वोल्व हो गया था. आपको मालूम ही होगा कि ये पूरा घटनाक्रम हनुमान जन्मोत्सव के बाद से ही शुरू हो गया था जिसमे जुलूस निकाल रहे लोगो के ऊपर पत्थर फेंकने के आरोप है और ये मामला फिर आपसी बहस में बदल गया लेकिन अब इसमें देखते ही देखते एमसीडी और बुलडोजर की एंट्री भी देखने को मिल गयी.

कई अतिक्रमण गिराए गये, सुप्रीम कोर्ट के आदेश के कारण बीच में रूका
आपको मालूम ही होगा कि गत सोमवार को एमसीडी ने जहांगीरपुरी में कई अतिक्रमण करके बनाये गये ढांचों को गिरा दिया और इसी बीच सुप्रीम कोर्ट का यथावत स्थिति बनाये रखने का आदेश आ गया जिसके कारण से ये सब कुछ बीच में ही रोकना पड़ा लेकिन उस से पहले ही काफी कुछ हो चुका था जो अब कई लोगो की आँखों में खटक भी रहा है जिनमे से एक एएमआईएम के प्रमुख भी है.

आप और भाजपा पर निकाला गुस्सा, बोले ताकत हमेशा के लिए नही होती
एएमआईएम के प्रमुख ओवैसी ने कहा कि ये तुर्कमान गेट 2022 है, जिन लोगो ने पहले 1976 में ऐसी गलतियाँ की थी वो भी अपनी सत्ता से हाथ धो बैठे है. भाजपा और आम आदमी पार्टी को भी याद रखना चाहिए, ताकत हमेशा ही नही रहती. ओवैसी ने इस घटना की तुलना कांग्रेस के शासनकाल में 1976 में हुई घटना से की जब तुर्कमान गेट के पास की झुग्गियो को हटाया गया था और उसमे लोगो की बिलकुल परवाह नही की गयी.

अब ओवैसी ने इस पूरे घटना की न सिर्फ तुलना उससे की बल्कि साथ ही साथ में ये भी कहा कि इसके जरिये विरोध करने वालो को दबाया जा रहा है. सीधे एमसीडी ने निर्णय कर लिया कि बुलडोजर चलाना है. क्या उन्हें कोई नोटिस दिया गया था? बिना नोटिस के ही इस तरह की कार्यवाही कैसे की जा सकती है. ये बाते ओवैसी यूपी में अतिक्रमण हटाया गया तब उसे लेकर के भी कह चुके है.

वही न सिर्फ ओवैसी बल्कि कांग्रेस पार्टी से राहुल गांधी ने भी इसकी आलोचना की और इसे एक तरह से संविधान के ही खिलाफ बता दिया. खैर अभी ये पूरा मामला कोर्ट में है और जल्द ही इस पर कोई फैसला आ ही जायेगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here