अमेरिका ने भारत से की है अब बड़ी अपील, क्या मोदी मानेंगे बायडन की बात

0
1755

अभी भारत जैसे जैसे दुनिया में अपनी एक पहचान साबित कर रहा है वो अपने आप में काफी बड़ी बात है. मगर अब एक बड़ी शक्ति होने के कारण से विश्व के अलग अलग देशो के प्रति भारत के कर्तव्य और जिम्मेदारियां भी काफी अधिक बढती चली जा रही है. ऐसे में हर देश की अपनी अपेक्षाएं होती है जिसकी पूर्ति वो चाहता ही है. अगर हम अभी की बात करे तो फिलहाल में अमेरिका ने भी अपनी तरफ से कुछ एक इच्छाएं भारत के सामने रखी है जिसको लेकर के वो भविष्य की मित्रता को आगे बढ़ाना चाह रहे है.

डिफेन्स मामले में रूस पर अपनी निर्भरता कम करे भारत
अभी हाल ही में अमेरिका व भारत की एक बहुत ही महत्त्वपूर्ण मीटिंग हुई जिसमे बायडन एडमिनिस्ट्रेशन और मोदी केबिनेट के टॉप लेवल के लोगो के साथ में खुद अमेरिकी राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री मोदी शामिल हुए. इसमें क्वाड को मजबूत करने और चीन को काउंटर करने के जैसे मामलों पर तो बातचीत हुई ही है लेकिन साथ में अमेरिका ने एक बात को लेकर के उम्मीद भी जताई है.

अभी हाल ही में अमेरिका ने भारत से ये उम्मीद जताई है कि भविष्य में भारत रूस के प्रति अपनी जो वीपन के मामले में निर्भरता है उसे धीरे धीरे कम कर दे. इस सम्बन्ध में अगर भारत को डिफेन्स में सप्लाई की जरूरत है तो फिर अमेरिका उसमे खुद और अपने मित्र देशो से सप्लाई करवाने में सहायता करेगा, मगर एक बार के लिए भारत रूस के प्रति अपनी निर्भरता कम कर दे.

भारत कर रहा आत्मनिर्भरता पर काम
हालांकि भारत विश्व के अधिकतर देशो पर से निर्भरता कम कर रहा है लेकिन इसमें कोई अपील नही बल्कि खुद सरकार का अपना निर्णय है. अभी फिलहाल में विदेशो के कई प्रोजेक्ट कैंसिल करके वो डीआरडीओ व एचएएल को थमा दिए गये है. इसके अलावा प्राइवेट कम्पनियों को भी डिफेन्स क्षेत्र में निर्माण करने की भारी छूट मिल चुकी है.

ऐसे में भारत की निर्भरता जाहिर तौर पर रूस से कम तो होने ही वाली है चाहे इसमें अमेरिका की अपील आये या फिर न भी आये तो भी भारत इस मामले में लगातार अपनी खुदकी स्वनिर्मित टेक्नोलॉजीज के ऊपर कार्य कर रहा है जो सुरक्षित भविष्य के लिए जरूरी भी है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here