भारत नही कर रहा अब रूस को सपोर्ट, हाल ही में लिया बड़ा फैसला

0
1720

पिछले कुछ हफ्तों में विश्व भर में जो कुछ भी घटनाक्रम हुए है उसमे विश्व भारत के स्टैंड को लेकर के काफी अधिक कन्फ्यूज रहा क्योंकि लगातार कई संगठनों और देशो की तरफ से भारत पर आरोप लगाया जा रहा था कि आप यूक्रेन के साथ न होकर रूस के साथ में खड़े है. दूसरी तरफ भारत यूक्रेन को मानवीय सहायता भी भेज रहा था तो ऐसे में सवाल ये उठ रहा था कि क्या वाकई में  भारत रूस की साइड में है या फिर न्यूट्रल ही रह रहा है? हाल में भारत के एक निर्णय ने ये सब स्पष्ट कर दिया है.

भारत ने रूस के प्रस्ताव का नही किया सुरक्षा परिषद् में समर्थन
अभी हाल ही में रूस की तरफ से संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में यूक्रेन मामले को लेकर के एक प्रस्ताव रखा गया था जिसमे कहा गया कि महिलाएं, बच्चे, मानव कर्मी और जो भी यूक्रेन के आम नागरिक है वो आज की तारीख में सुरक्षित है और इनकी सुरक्षित निकासी के लिए कोई रास्ता निकाला जाना चाहिए. रूस के इस प्रस्ताव का भारत ने समर्थन नही किया.

जब वोट करने की बारी आयी तो रूस को लगभग पूरा भरोसा था कि चीन और भारत तो ऐसे देश है जो उसका समर्थन करेंगे जिसमे से चीन ने तो रूस के सपोर्ट में वोट किया है लेकिन भारत ने यहाँ पर खुदको तटस्थ बना लिया और रूस के समर्थन में अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर वोट करने से परहेज कर दिया जो पुतिन के लिए भी काफी चकित करने वाला क्षण था.

पश्चिमी देशो से सामंजस्य भी है जरूरी
अभी की स्थिति को अगर हम देखे तो भारत ने पिछले कुछ वक्त में रूस के प्रति अपना काफी झुकाव दिखाया है और इससे पश्चिमी देशो में अधिक असंतोष देखने को मिला है. कही न कही ये बहुत ही अधिक खराब स्थिति थी और इस कारण से अब भारत अपनी स्थिति को तटस्थ बनाने की कोशिश कर रहा है.

जाहिर तौर पर भारत के इस स्टैंड की अमेरिका व यूरोप में सराहना की जायेगी मगर रूस को ये चीज पसंद नही आने वाली. दुनिया में एक शक्तिशाली देश बन जाने के बाद में भारत के सामने ये बड़ी समस्या आन पड़ी है कि जिस समय जिस पक्ष के साथ खड़े न रहो वो बुरा मान जाता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here