अमेरिका ने दी मोदी को खुली चेतावनी, कहा जब इतिहास लिखा जाएगा तो आपको हम..

0
8683

भारत और अमेरिका पिछले कुछ समय से लगातार एक अच्छे मित्र देश के तौर पर उभर कर के आये है. दोनों ही देशो की स्ट्रेटजिक पार्टनरशिप अच्छी खासी पनप रही है लेकिन जब बात आती है काम को लेकर तो फिर हर देश कही न कही अपना हित सबसे पहले रखता है और इसमें कुछ गलत भी नही है. अगर अभी की बात करते है तो फिलहाल में जो विश्व स्तर पर तेल को लेकर माथापच्ची चल रही है उसके कारण से हर तरफ तनाव बढ़ते हुए ही नजर आया है.

रूस से कम कीमत पर तेल खरीद रहा भारत, अमेरिका नही चाहता
अभी आपको मालूम हो तो अमेरिका ने हाल ही में रूस के ऊपर काफी बड़े आर्थिक प्रतिबन्ध लगाये है और रूस को अलग थलग करने की कोशिश की जा रही है. अपने बुरे वक्त में रूस कम कीमत पर तेल ऑफर कर रहा है जिसके चलते हाल ही में आयी रिपोर्ट के अनुसार भारत ने करीबन तीन मिलियन बेरल तेल रूस से खरीदा है और इसमें आईओसी कम्पनी को आगे किया गया है.

अमेरिका में गुस्सा, वाइट हाउस की प्रवक्ता ने भी जतायी नाराजगी
भारत के इस कदम पर वाइट हाउस की प्रवक्ता ने अपनी तरफ से अच्छी खासी नाराजगी व्यक्त की है और कहा कि हम इस पर कोई प्रतिबन्ध नही लगाने वाले लेकिन भारत को याद रखना चाहिए कि जब इतिहास लिखा जायेगा तो उस समय भारत के बारे में जब भी लिखेंगे तो उस वक्त भारत को गलत पक्ष में दर्शाया जाएगा.

भारत ने मुश्किल वक्त में गलत पक्ष का सपोर्ट किया है. अमेरिका और वेस्ट की पत्रकार लिखती है कि भारत जो कर रहा है उसके लिए इस देश को दण्डित किया जाना चाहिए. प्रतिबन्ध न सही लेकिन इनको मिलने वाले अनुदान के ऊपर रोक लगनी चाहिए.

यानी अभी अमेरिका भारत पर एक तरह से सैद्धांतिक दबाव बनाने की कोशिश कर रहा है और एहसास करवाने की कोशिश की जा रही है कि इस मुश्किल वक्त में अगर आप रूस से व्यापार जारी रखते है तो फिर ये काफी बुरा होगा और इतिहास में आपको एक सकारात्मक देश के रूप में नही देखा जायेगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here