यूक्रेन घटना से सबक लेते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने बड़ा फैसला किया

0
16397

अभी फिलहाल की घटना के ऊपर अगर हम लोग नजर डालते है तो जो कुछ भी यूक्रेन में घटित हुआ है उससे भारत के हजारो बच्चे सीधे तौर पर प्रभावित हुए है, क्योंकि वहां पर बड़ी संख्या में लोग मेडिकल की पढ़ाई करने के लिए गये हुए थे और सबको बीच में ही वापिस आना पड़ा. अब इस पूरे मामले के कारण से लोग चिंता में आ गये क्योंकि और भी कई देशो में बच्चे पढने जाते रहते है और इससे तो उनका भविष्य अस्थिरता में ही झूलता रहेगा. इसको देखते हुए सरकार ने बड़ा कदम उठाया है.

देश में मेडिकल की पढ़ाई करना होगा आसान, प्राइवेट कॉलेजो आधी सीटो पर सरकारी जैसी ही फीस लगेगी
अभी हाल ही में प्रधानमंत्री कार्यालय से एक जानकारी दी गयी है जिसके तहत मोदी सरकार ने एक बड़ा निर्णय लिया है कि देश में जो भी निजी मेडिकल कॉलेज है उनकी आधी सीट्स पर फीस सरकारी मेडिकल कॉलेज के बराबर ही लगेगी, इससे सीधे तौर पर कही न कही गरीब वर्ग और मध्यम वर्ग के बच्चे लाभान्वित होंगे जो अपने देश में ही एमबीबीएस की पढाई कर पायेंगे.

लाखो बच्चे पढ़ रहे देश से बाहर, कर रहे मेडिकल की पढ़ाई
अभी वर्तमान में जो भी डाटा मौजूद है उसके अनुसार कई छोटे मोटे देशो जैसे यूक्रेन, कजाकिस्तान, किर्गिस्तान और जोर्जिया आदि में लाखो की संख्या में भारतीय बच्चे है जो एमबीबीएस की पढ़ाई कर रहे है और इसके पीछे का कारण ये है कि वहां पर डिग्री की लागत काफी अधिक कम है.

इस कारण से बच्चे अपने देश की मेडिकल कॉलेज को छोड़कर के विदेशो में जाकर के पढ़ाई कर रहे है. ऐसे में अब जो घटना यूक्रेन में घटित हुई है उसको देखते हुए मोदी सरकार सचेत हुई है और फिलहाल के लिए एक निर्णय लिया गया है जिसके तहत बड़ी संख्या में बच्चो को मेडिकल कॉलेजो में सस्ते में एडमिशन भारत में ही मिल जाएगा व वो यही पर ही डॉक्टर बन भी पाएंगे. इससे आखिर में इकॉनमी भी भारत की ही बढ़ने वाली है.

हालांकि एक्सपर्ट्स यहाँ पर यही सुझाव देते हुए नजर आ रहे है कि अभी सरकार को कम से कम देश में सरकारी मेडिकल कॉलेज दोगुने कर देने की जरूरत है तभी बच्चो के लिए अच्छा रहेगा और साथ ही साथ में वो विदेश में जाकर पढने की बजाय भारत में रहकर कार्य करेंगे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here