चीन ने छोड़ा रूस का साथ, मुश्किल वक्त में दे दिया धोखा

0
6223

आज विश्व में जिस तरह की स्थिति और परिस्थिति बन रही है वो अपने आप में बहुत ही अधिक चिंताओं से भरी हुई नजर आती है और इसमें कोई संशय भी नही है. जब हम देखते है कि क्या कुछ घटित हो रहा है तो रूस और यूक्रेन का मामला तो सामने आ ही रखा है और हम लोग इस चीज को भी अनुभव कर रहे है कि ऐसे वक्त में हर देश चाहता है कि बाकी देश दूर से ही सही उसका सपोर्ट करे लेकिन असल में अधिकतर ऐसा होता नही है और ऐसा ही कुछ हो भी रहा है.

चीन भी पश्चिमी देशो के आर्थिक प्रतिबन्ध के साथ खड़ा दिखा, रूस को भारी नुकसान
अभी हाल ही में आपको मालूम हो तो पश्चिमी देशो ने रूस के ऊपर काफी भारी भरकम आर्थिक प्रतिबन्ध लगा दिए है और इसके कारण से रूस बाहर कही व्यापार नही कर पा रहा था. ऐसे में उन्हें ये भरोसा था कि चीन मुश्किल वक्त में उनका साथ नही छोड़ेगा लेकिन मजबूरी में ही सही लेकिन चीनी बैंक खुदको रूस के फाइनेंसियल सिस्टम और कमोडिटी मार्केट से दूर करते हुए दिख रहे है.

इसका प्रभाव काफी अधिक भारी होने वाला है क्योंकि रूस और चीन का व्यापार कई बिलियन डॉलर का है और अगर चीन इनसे दूर होता है आर्थिक मामले में तो फिर रूस के लिए निर्वहन करना भी काफी अधिक मुश्किल हो सकता है और ये बात अपने आप में सत्य तौर पर कही जा सकती है.

चीन की भी अपनी मजबूरियां
वैसे तो चीन रूस का काफी अच्छा मित्र है लेकिन जब बात व्यापार की आती है तो फिर सारी दोस्ती धरी रह जाती है. आज चीन का व्यापार रूस से अच्छा है और दोस्ती भी गहरी है लेकिन असल में वो अधिक एक्सपोर्ट तो यूरोपियन युनियन और अमेरिका में करता है. अगर इस वक्त में चीन उनके पीछे खड़े नही होता तो चीन के लिए काफी दिक्कते हो सकती है जैसे द्वितीय स्तर के प्रतिबन्ध चीन पर भी लग सकते है.

ऐसे में नजर आ रहा है कि चीन अपनी दोस्ती के लिए पैसे का नुकसान नही उठाना चाह रहा है और इस कारण से वो खुलकर के अपने दोस्त का सपोर्ट भी नही कर रहा है. खैर ये सब तो होना ही था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here