मोदी ने दुनिया के सबसे अमीर आदमी आदमी ‘एलन मस्क’ की रिक्वेस्ट को ठुकरा दिया

0
2160

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनकी  सरकार देश में काफी अधिक सशक्त तरीके से कार्य कर रही है और कही न कही बीते हुए कुछ वक्त में हमने ये भी देखा है कि सरकार ने जो प्रगति की है वो सराहनीय है. कही न कही ये बहुत ही अधिक बेहतरीन है मगर फिर कुछ मामलो में सरकार सख्त भी होती है और वो है स्पेशल ट्रीटमेंट. ये आम तौर पर किसी भी व्यक्ति या फिर कम्पनी को देने से बचती है हमारी सरकार, वरना इससे असामनता के स्वर उठने लगते है.

एलन मस्क ने मांगी थी टैक्स में विशेष छूट
आपको मालूम होगा कि एलन मस्क विश्व के सबसे अमीर व्यक्ति है और उनकी कार टेस्ला विश्व की सबसे उन्नत इलेक्ट्रिक गाडियों में शुमार की जाती है. उनका कहना था कि वो भारत में फैक्ट्री लगायेंगे लेकिन पहले सरकार उन्हें एक बार सामान इम्पोर्ट करके डायरेक्ट भारत में बेचने दे, ताकि वो बाजार का अंदाजा लगा सके और इसके लिए उनको टैक्स में भी विशेष छूट जाए वर्तमान में भारत में इम्पोर्ट ड्यूटी बहुत अधिक है इस कारण से कीमत अगर अमेरिका में 25 लाख है तो भारत में 40 लाख से भी ज्यादा हो जाती है.

सरकार का विशेष छूट देने से इनकार, कम टैक्स का फायदा उठाना है तो भारत में लगानी पड़ेगी फैक्ट्री
इस मामले में भारत सरकार ने अपने इरादे साफ़ करते हुए कह दिया कि फिलहाल के लिए हमारा ऐसा कोई भी विचार नही है जिसमे टैक्स में किसी कम्पनी को विशेष छूट दी जाये. अगर टेस्ला के मालिक चाहते है कि उनकी कार पर कम टैक्स लगे तो इसके लिए उन्हें भारत में आकर निर्माण करना होगा.

माना जा रहा है इसके पीछे कही न कही लोकल कार निर्माणकर्ताओं जैसे महिन्द्रा और टाटा आदि का भी दबाव था कि ब्रांड वैल्यू को देखते हुए किसी कम्पनी को स्पेशल ट्रीटमेंट नही दिया जाना चाहिए, वरना कही न कही ये बाकी कम्पनियों के अन्दर भी सुरक्षा की भावना को कम करने का कार्य करेगी.

हालांकि कई राज्य सरकारे है जो एलन मस्क को विशेष छूट के साथ में अपने राज्य में आकर बिजनेस करने के लिए कह रही है मगर केंद्र सरकार के को ऑपरेशन के बिना ये कर पाना राज्यों के लिये बहुत ही अधिक मुश्किल है. कुल मिलाकर के अभी टेस्ला के भारत में आने के चांस काफी कम हो गये है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here