प्रधानमंत्री मोदी और भाजपा का गुप्त एजेंडा, जो भारत को सुनहरे गर्वित भविष्य की तरफ ले जा रहा है

0
2264

अभी फ़िलहाल भाजपा लगातार कई राज्यों में सरकारे बना रही है और अगर हम एक तरह से देखे तो केंद्र में भी लगातार डटी हुई है. प्रधानमंत्री मोदी अब अब फ़िलहाल के लिये सात वर्षो से भी अधिक समय से देश के प्रधानमंत्री रहे है और इस कारण से देश में काफी कुछ उनके एजेंडे के हिसाब से चल रहा है. वैसे छोटी छोटी चीजे तो कई बदली है लेकिन अगर हम बड़े लेवल पर तस्वीर देखने की कोशिश करे तो काफी कुछ बदला गया है.

भुलाये जा रहे पुराने नायको को फिर से जनता के सामने लाया गया
अभी अगर मोदी सरकार के एक बड़े फोकस को देखा जाए तो सबसे अधिक उनका ध्यान अपने भुलाये जा चुके नायको को फिर से लोगो के बीच में लाने पर रहा है. इसके उदाहरण आप कुछ इस तरह से देख सकते है जैसे सरदार पटेल के सम्मान में स्टेचू ऑफ यूनिटी का निर्माण करवाना, नेताजी सुभाष चन्द्र बोस के याद करते हुए उनकी प्रतिमा को इंडिया गेट पर स्थापित करवाना. देश के शहीद सैनिको की याद में नेशनल वार मेमोरियल का निर्माण करवाना, हाईफा के हीरोज को उनका खोया सम्मान दिलवाना.

देश में महात्मा गांधी को ही एक मात्र हीरो बताकर के कार्य पूर्ण करने की परम्परा को तोड़ने की कोशिश की गयी है और कही न कही इसके कारण से उन नायको को भी वही सम्मान मिल पा रहा है जिसके वो हकदार थे. इससे संभव है आने वाली पीढ़ी अन्य बाकी हीरोज को भी उसी नजर और सम्मान से देख पायेंगे जिस सम्मान से वो गांधी जी को देखते है.

स्थानों के नाम बदलकर भी कोशिशे
अभी के लिए कई जगहों पर नाम बदलकर के भी भारतीय संस्कृति को फिर से जागृत करने की कोशिश की गयी है. इसके कुछ उदाहरण इस प्रकार है गुडगाँव का नाम गुरुग्राम, मुगलसराय स्टेशन का नाम दीनदयाल उपाध्याय स्टेशन, अंडमान एयरपोर्ट का नाम वीर सावरकर एयरपोर्ट, झांसी रेलवे स्टेशन का नाम रानी लक्ष्मीबाई रेलवे स्टेशन किया जाना.

इनके जरिये भाजपा अपने एक एजेंडे पर कार्य करते हुए नजर आ रही है कि जो वाकई में देश को बनाने वाले हीरो है उनको लोगो के बीच में रखा जाये और लोग उनके सम्मान में स्थानों को देखकर इतिहास को पिरोते रहे. अब कई विपक्षी पार्टियों को ये राजनीति भी लगती है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here