गृहमंत्री अमित शाह के खिलाफ इंग्लैंड के कोर्ट में मुकदमा दर्ज, लगाया बड़ा आरोप

0
7548

विश्व स्तर पर आपस में कई बार कुछ एक देश डिप्लोमेटिक स्तर पर वार्ता करते हुए नजर आते रहते है और इसी बीच सिस्टम को भी दुसरे देशो के नागरिको के ऊपर लादने की कोशिश की जाती है. अभी हाल ही में यूके में ऐसा ही कुछ नजारा देखने में आया जब तुर्की की एक लॉ फर्म ने यूनिवर्सल ज्यूरिसडिक्शन के आधार पर भारत के वर्तमान गृह मंत्री अमित शाह और थल सेना प्रमुख नरवने जी को घेरने की कोशिश की है. चलिए पूरा मामला ज़रा बेहतर तरीके से समझते है.

तुर्की की लॉ फर्म ने यूके में दर्ज करवाया है मुकदमा, कहा आपके देश में आते ही गिरफ्तार करो
यूरोप के देश तुर्की की एक लॉ फर्म जिसका ऑफिस यूके में भी है उसने वहां की अदालत में होम मिनिस्टर अमित शाह और थल सेना प्रमुख नरवने जी के खिलाफ कश्मीर में वार क्राइम करने का आरोप लगाते हुए केस दर्ज करवाया है. इस लॉ फर्म का आरोप है कि कश्मीर में इनके आदेशो के बादमें वहां के स्थानीय लोगो के ऊपर सेना के लोगो ने गलत कार्यो को अंजाम दिया है जो मानव अधिकारों का उल्लंघन करते है, ऐसा इस लॉ फर्म का आरोप है.

लॉ फर्म का मुकदमा और सबूत संदेहास्पद और हास्यास्पद
इन्होने जो मुकदमा दर्ज करवाया है और इसमें जो भी टेस्टीमनी दी जिसमे ये कश्मीर के स्थानीय लोगो के होने  का दावा करते है, वो पूर्ण रूप से सत्यापित नजर नही आती और उपर से कुछ आतकी संगठन जिन्हें खुद संयुक्त राष्ट्र ने भी खतरा माना है इन्हें ये नॉन स्टेट आर्म ग्रुप्स जैसे शब्दों से ढकने का प्रयास करते हुए नजर आ रहे है.

इन टूटे फूटे और अजीब से सबूतों के आधार पर इस लॉ फर्म ने यूके की कोर्ट ने ये रिक्वेस्ट की है कि यूनिवर्सल ज्यूरिडीकशन के आधार पर जब भी इनके अनुसार आरोपी इनकी सीमा में आते है तो गिरफ्तार करके इनके ऊपर ट्रायल चलाया जाए. ये कोई पहली बार नही है जब तुर्की की लॉ फर्म्स इस तरह की हरकत कर रही हो. इससे पहले भी ये यूएई के अधिकारियों के खिलाफ इस तरह के मुकदमे दायर कर इन पर यमन जैसे देशो में अस्थिरता पैदा करने के आरोप लगा चुके है.

इस मामले में भारत सरकार ने कोई भी प्रतिक्रिया नही दी है, यानी इसे पूरी तरह से इग्नोर कर दिया गया है क्योंकि फ़िलहाल भारतीय संविधान के अनुसार ऐसा कोई भी आरोप बनता नही है और यहाँ के नागरिक केवल इस देश के कानूनों को मानने के लिए ही बाध्य माने गये है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here