ओवैसी का बड़ा बयान, जिससे अखिलेश यादव को भारी नुकसान हो सकता है

0
6853

अभी उत्तर प्रदेश में चुनाव आने वाले है और ये अपने आप में बहुत ही अधिक चिंताजनक स्थिति भी है क्योंकि जब हम लोग इसे देखते है तो कही न कही दिमाग में एक चीज तो आती ही है और वो ये कि पार्टियाँ अपने आप में धर्म से लेकर जाति को लेकर के ध्रुवीकरण करने की भरपूर कोशिश करेगी. अभी हमें ऐसा होते हुए नजर आ भी रहा है क्योंकि बयानों से इसकी शुरुआत हो चुकी है जहां पर ओवैसी ने एक बार फिर से सपा को टार्गेट किया है जो जाहिर तौर पर उनको नुकसान पहुंचाने वाला ही होगा.

सत्ता पाने के बाद में मुसलमानों को भूल जाती है सपा
अभी हाल ही की बात है जब एएमआईएम के मुखिया और मुस्लिमो के नेता ओवैसी एक मीडिया समूह को इंटरव्यू दे रहे थे तो उस दौरान उन्होंने जमकर के समाजवादी पार्टी और अखिलेश यादव को कोसा. उनका कहना है कि पहले सपा मुस्लिमो को याद करती है और जब सत्ता मिल जाती है उसके बाद में समाजवादी पार्टी मुस्लिमो को भूल जाती है.

भाजपा को फायदा, अखिलेश को नुकसान
अभी यूपी के चुनावों में ओवैसी की एंट्री करना और चुनाव लड़ना कही न कही मुस्लिम वोटो को बांटने का कार्य ही करने वाला है. अगर हम सही मायनों में बात करे तो इससे फायदा सीधे तौर पर भारतीय जनता पार्टी को होने वाला है क्योंकि कही न कही जब मुस्लिम वोट बंट जाते है तो इससे समाजवादी पार्टी को उतनी सीट्स नही मिल पाती जितनी मिल सकती है.

इस कारण कई बार भाजपा के विरोधी दल ओवैसी को भाजपा के ही गुप्त एजेंट के रूप में प्रचारित करते रहते है ताकि वो मुस्लिम वोट उनसे खींच न पाए लेकिन अभी बिहार में देख ले या फिर कई और राज्यों में देख ले, एएमआईएम ने हलका फुल्का ही सही लेकिन मुस्लिम वोटो को बांटकर भाजपा को फायदा ही पहुंचाया है.

हालांकि ओवैसी के इस बयान पर सपा किस तरह से प्रतिक्रिया देती है ये तो अपने आप में देखने वाली बात ही होगी क्योंकि अभी के लिए तो इसको लेकर के काफी कुछ है जो स्पष्ट होते हुए नजर आ नही रहा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here