ताईवान ने भारतीय बाजार को लेकर बड़ा खेल शुरू कर दिया है, जो चीन को पसंद नही आएगा

0
3774

आज भारत विश्व की अर्थव्यवस्था में एक बहुत ही मजबूत पिलर के रूप में स्थापित हो चुका है. इस कारण से इसे न सिर्फ एक बड़े बाजार बल्कि एक बड़े निर्माणकर्ता के रूप में भी देखा जा रहा है जो अपने आप में काफी अधिक अच्छी बात है और ये चीज होनी भी चाहिये. अभी तक भारत में आम तौर पर बड़े अमेरिकी, जापानी और चीनी इन्वेस्टर ही कदम रख रहे थे लेकिन लग रहा है अब चीन का सबसे बड़ा विरोधी देश यानी ताइवान भी भारत में एक बड़ी और मेजर एंट्री लेने वाला है.

भारत में सेमीकंडक्टर बनाएगा ताइवान, खुलेगी कई मेगा फैक्ट्रीज
अभी हाल ही में भारत और ताइवान के बीच में फ्री ट्रेड अग्रीमेंट को लेकर के तो बातचीत चल ही रही थी. इन सबके बीच में दुनिया की और ताइवान की जानी मानी कम्पनी टीएसएमसी ने ये ऐलान किया है कि हम भारत में अपनी फैक्ट्री लगायेंगे जिनमे भविष्य में सेमी कंडक्टर का निर्माण किया जाएगा. इसे लेकर के उनको कई सारी जगहे भी ऑफर सरकार द्वारा की गयी है ऐसी खबरे सामने निकलकर के आ रही है.

दुनिया का भविष्य है सेमी कंडक्टर
आज के वक्त में विभिन्न रिपोर्ट्स कहती है कि डाटा और सेमी कंडक्टर विश्व के अगले आयल है जिनके बिना कुछ चल ही नही सकता है. आज घर के एक छोटे मोबाइल फोन से लेकर बड़े बड़े हवाई जहाज तक हर चीज को बनाने में सेमी कंडक्टर का उपयोग किया जाता है और इसमें चीन, ताइवान और अमेरिका को महारत हासिल हो रखी है.

अगर किसी भी तरह से ये टेक्नोलॉजी भारत में आ जाती है तो ये अपने आप में काफी बड़ा इंडियन इकॉनमी के लिए बहुत ही बड़े बूस्ट की तरह होगा क्योंकि सेमी कंडक्टर अपने आप में एक बहुत ही मजबूत एक्सपोर्ट मटेरियल के रूप में उभर कर के आया है और इसकी टेक्नोलॉजी को हासिल कर लेना अपने आप में काफी बड़ी बात है.

हालांकि इसे भी तय माना जा रहा है कि चीन को भारत और ताइवान की इस बढ़ रही दोस्ती से काफी अधिक परेशानी भी होने वाली ही है, क्योंकि चीन ताइवान को अपने हिस्से की तरह देखता है और भारत के उससे  बढ़ रहे रिश्ते उसे काफी असहज करने वाले है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here