जर्मनी भारत को फ्री में दे रहा 10 हजार करोड़ नकद, जानिये क्या है पूरा मामला

0
5930

भारत आज के समय में विश्व की काफी अधिक तेजी से  उभर रही अर्थव्यवस्था है और इस बात को हम भी बहुत ही अधिक अच्छे से समझते है. इस कारण से आज दुनिया इस बात को भी समझ चुकी है कि अगर हमें आगे बढना है और विकास करना है तो फिर उसके लिए भारत का विकास करना भी बहुत ही अधिक जरूरी है और इसी कारण से आज आप पायेंगे कि बहुत सारे पश्चिमी देश ऐसे है जो हर तरफ से भारत को सपोर्ट कर रहे है और अभी एक और ऐसा ही केस आया है.

जर्मनी ने भारत को 10 हजार करोड़ की मदद करने का फैसला किया, क्लाइमेट चेंज से बचने के लिये दिया जा रहा फंड
आपको ये तो पता ही होगा कि प्रदूषण आज के समय में विश्व भर में एक बड़ी समस्या बन चुका है और इसके कारण से ग्लोबल वार्मिंग से लेकर विश्व के नष्ट होने तक की रिस्क हर किसी को नजर आ रही है. ऐसे में भारत और चीन जैसे देश विश्व के लिए काफी अधिक चिंता का  विषय बने हुए है क्योंकि आज की तारिख में सबसे अधिक फोसिल फ्यूल की खपत इन्ही देशो में हो रही है और इसी कारण से कार्बन एमिशन भी भारत से भरपूर मात्रा में हो रहा है.

जब तक भारत में फोसिल फ्यूल उर्जा को ग्रीन ऊर्जा से रिप्लेस नही किया जाता है तब तक विश्व में क्लाइमेट चेंज को रोक पाना मुश्किल है और अगर क्लाइमेट चेंज नही रूका तो सम्पूर्ण विश्व पर खतरा आ सकता है. इसी को टालने के लिये जर्मनी अपनी तरफ से कुछ मदद दे रहा है ताकि भारत कोयले जैसे चीजो को छोड़कर के सौर उर्जा और पवन ऊर्जा आदि पर अधिक फोकस करना शुरू कर दे.

जर्मनी के निजी हित भी है शामिल
ऐसा नही है कि जर्मनी ये सब कुछ सिर्फ समाज सेवा के लिए ही कर रहा है. ये तो हर कोई जानता है कि भविष्य में पेट्रोल और कोयला आदि की खपत गायब हो जायेगी और विश्व में सिर्फ ग्रीन ऊर्जा चलेगी. ऐसे में जर्मनी चाहता है कि उसकी कम्पनियां वर्ल्ड लीडर बने और कई बिलियन डॉलर की कमाई करे.

ऐसा करने के लिए अगर भारत जैसे देशो में वो ये कैश डालकर के अपनी कंपनियो को एंट्री दिलवा देता है तो भविष्य के नजरिये से जर्मनी को ये काफी अधिक फायदेमंद नजर आ रहा है. हालांकि भारत भी अपनी तरफ से हर संभव कोशिश कर ही रहा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here