श्रीलंका ने भारत से मांगी भारत से इमरजेंसी मदद, क्या मोदी करेंगे सहायता

0
3803

आम तौर पर भारत एक बहुत ही बड़े देश के तौर पर जाना जाता है जिसका दिल भी काफी अधिक बड़ा है क्योंकि जब भी कोई पडोसी या फिर मित्र देश मुश्किल में होता है तो फिर भारत मदद करने के लिए आगे आ  ही जाता है और ये बात हम लोग कई देशो के सम्बन्ध में देख ही चुके है. इस कारण से भारत को मदद की उम्मीद से देखने वाले देशो की संख्या भी खूब है. अभी फ़िलहाल के लिए तो ये उम्मीद श्रीलंका लगा रहा है.

श्रीलंका को चाहिए 500 मिलियन डॉलर का लोन, वरना रूक जाएगा देश
अभी के लिए श्रीलंका ने भारत से एक तरह से लोन की मांग की है और ये मांग उन्होंने ऐसे ही नही बल्कि इमरजेंसी हालातो को देखते हुए की है. दरअसल श्रीलंका में अभी पहले ही फ़ूड इमरजेंसी लगी हुई है और उनके पास में ज्यादा पैसा बचा नही है, फोरेक्स रिजर्व सबसे कम के स्तर पर है और इनके पास में तेल यानी आयल खरीदने तक के पैसे नही है.

अभी अगर ये सब चलता रहा तो कुछ ही दिनों में इनका  पूरा देश ठप्प हो सकता है और इसी कारण से श्रीलंका ने अभी के लिए 500 मिलियन डॉलर यानी लगभग 3 हजार करोड़ रूपये का लाइन ऑफ क्रेडिट लोन भारत से माँगा है ताकि ये आयल खरीद कर सके और उससे इनके देश की इकॉनमी चल सके कही पर देश को डिफ़ॉल्टर घोषित न करना पड़ जाये.

क्या होता है लाइन ऑफ क्रेडिट
जब हम बात करते है लाइन ऑफ क्रेडिट की तो ये एक तरह का सॉफ्ट लोन होता है जिसे बहुत ही कम इंटरेस्ट रेट पर किसी देश को दिया जाता है जिसे कर्ज लेने वाला देश अगले दस बीस साल में आराम से चुकाता है. हाँ इसमें एक शर्त ये होती है कि जो लोन का पैसा दिया गया है उससे आप किसी और देश से खरीद नही कर सकते है आपने भारत से लोन लिया है तो भारत से ही उस पैसे के बदले में खरीद करनी होगी.

अभी भारत एक बहुत ही अजीब स्थिति में है क्योंकि श्रीलंका की मदद नही करने पर वो फिर से चीन की तरफ झुक सकता है और मदद करने जाए तो तीन हजार करोड़ रूपये एक बहुत ही बड़ा अमाउंट है, ऐसे में आगे क्या क्या किया जा सकता है इस पर सरकार विचार कर रही है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here