1 अक्टूबर से मोदी सरकार और प्रशासन ने बदल दिये है ये 4 बड़े नियम, मालूम नही तो होगा घाटा

0
2501

समय के साथ में चीजो में बदलाव होता रहता है और ये बदलाव अपने आप में काफी अधिक जरूरी माना भी जाता है क्योंकि जब हम लोग बात करते है नियमो की तो ये अपने आप में बहुत ही अधिक लचीले होते है और समय के साथ में इनको बदला जाना काफी अधिक आवश्यक भी होता है. अगर हम लोग बात करते है अभी के सन्दर्भ में तो अभी हाल ही में देश में कुछ एक बदलाव हुए है जो आपको मालूम होने चाहिए. चलिए उनके बारे में कुछ जानकारी एकत्रित कर लेते है.

बदल गये है निवेश नियम
जो लोग मुचुअल फंड में निवेश करते है उनके लिए ये जानकारी काफी अधिक अहम है. अभी हाल ही में सेबी की तरफ से नए नियमो में कहा गया है कि 1 अक्टूबर से मेनेजमेंट के तहत असेट्स के जूनियर कर्मचारियों को 10 प्रतिशत तक निवेश करना होगा. ये वो निकाल नही सकेंगे इसके लिए विशेष लॉक इन होगा. इसे इनसाइडर घोटालो को रोकने के लिए किया गया है.

पेंशन के नियमो में भी चेंज
अभी सरकार ने पेंशन के नियमो में भी काफी सारे बदलाव लागू किये है. इसके तहत अब जो भी व्यक्ति 80 वर्ष से आधिक आयु का है और पेंशन पात्र है या भोगी है वो चाहे तो किसी भी हेड पोस्ट ऑफिस में जाकर के जीवन प्रमाण सेंटर में जाकर के अपना डिजिटल लाइफ सर्टिफिकेट जमा करवा सकेंगे. इससे लोगो को काफी अधिक आसानी हो जायेगी जो लोग बूढ़े है.

बदल गयी ऑटो डेबिट फेसिलिटी
अभी हाल ही में रिजर्व बैंक ने एक नया नियम लागू कर दिया है जिसके तहत अब जो भी लेन देन ऑटो डेबिट का है यानी आपके खाते से अपने आप पैसे कटते थे अगर वो अब 5000 से अधिक के है तो उसके लिए एक तरह से टू फैक्टर ओथेटीकेशन लागू कर दिया गया है. आपके खाते से पैसा कटने से 24 घंटे पहले आपके पास में मेसेज आ जाएगा और आप उसे यस करेंगे तभी पैसा कटेगा वरना चाहे आपने ऑटो डेबिट कर रखा है लेकिन फिर भी वो नही होगा. इससे लोगो से फ्रॉड होने से बचेंगे.

इसके अलावा भी कई छोटी बड़ी चीजे होगी जैसे कुल तीन बैंक ओरिएंटल बैंक, यूनियन बैंक और इलाहाबाद बैंक की पुरानी चेक बुक नही चलेगी जिन पर नए एमआईसीआर कोड वगेरह पुराने है. गैस सिलेण्डर और पेट्रोल डीजल के दामो में भी उतार चढ़ाव देखने को मिल सकता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here