अगले 72 घंटे ममता बनर्जी के लिए अहम, या तो बच जायेगी या फिर हो जायेगा सब बर्बाद

0
3337

ममता बनर्जी आज के समय में बंगाल का सबसे बड़ा चेहरा मानी जाती है और उनकी पार्टी लगातार दो बार सत्ता में भी आयी है. जिस तरह से ममता दीदी का काम करने का तरीका रहा है वो उनको और अधिक स्पेशल बना देता है क्योंकि ममता बनर्जी आज के वक्त में पार्टी पर इतनी ज्यादा पकड़ रखती है कि अपना विधानसभा चुनाव हार जाने के बाद में भी वो सीएम बनी हुई है. मगर अब उनकी किस्मत का फैसला होने जा रहा है और इस पर हर किसी की नजरे लगी हुई है.

30 सितम्बर को भवानीपुर से उपचुनाव लड़ेगी ममता बनर्जी, जीती तो बच जायेगी कुर्सी वरना जायेगी
अब से अगले 72 घंटो के भीतर जो कुछ भी घटित होगा वो बंगाल में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के करियर के लिए बहुत ही अधिक अहम माना जा रहा है. एक अबर सुवेंदु अधिकारी से हार चुकी और अपनी जमानत जब्त करवा चुकी ममता बनर्जी अब अपनी मुख्यमंत्री की कुर्सी बचाने के लिए 30 सितम्बर को भवानीपुर से उपचुनाव लड़ने जा रही है. अगर वो जीत गयी तो सीएम बनी रहेगी और हारने पर कुर्सी छोडनी पड सकती है.

हालांकि अभी के लिए ममता बनर्जी और उनके पार्टी के लोग काफी अधिक जोश में नजर आ रहे है. अभिषेक बनर्जी ने तो बाकायदा जोश में आकर के ये भी कह दिया है कि इस बार ममता बनर्जी 1 लाख से भी अधिक वोटो से जीतने वाली है और भाजपा की जमानत जब्त हो जायेगी, चाहे वो पिछले चुनावों में किसी भी तरह से हार गयी हो.

भाजपा से प्रियंका टिबरेवाल दे रही है चुनौती
इस बार भारतीय जनता पार्टी ने भी ममता बनर्जी को चुनौती देने के लिए महिला शक्ति का सहारा लिया है और प्रियंका टिबरेवाल को भवानीपुर सीट से टिकट दिया है, वो इस बार ममता के खिलाफ चुनाव लड़ेगी और देखने वाली बात यही होगी कि वो ममता बनर्जी को हरा पाती है या फिर नही?

हालांकि उपचुनाव तो कई और भी जगहों पर हो रहे है या फिर होने है लेकिन ये सीट अपने आप में बहुत ही अधिक महत्त्वपूर्ण है क्योंकि इसके ऊपर ही बंगाल की पूरी राजनीति टिकी हुई है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here