तुर्की ने अमेरिका में जाकर भारत के खिलाफ कश्मीर का मुद्दा उठाया, बदले में मोदी ने भी तुर्की के साथ खेल कर दिया

0
3404

अभी आपको मालूम होगा कि अमेरिका में यूएन के कई सेशन चल रहे है और विश्व भर के कई बड़े बड़े नेता आदि यहाँ पर आ रखे है जिनका काम है कई मुद्दों पर बोलना और उसी के आधार पर विश्व की राजनीति भी तय होती है ये हम लोग बहुत ही अच्छे से जानते है. कही न कही हम लोग इस चीज को अनुभव भी कर ही सकते है.पहले भारत इस मामले में थोडा अलग था लेकिन अब चीजे वैसी नही है अब भारत भी आक्रामक रूख अपनाता है.

कश्मीर के लोगो का मुद्दा उठाया, तुर्की ने इसे विवादित क्षेत्र भी बताया
अभी हाल ही में तुर्की ने अपनी नीति को दोहराते हुए फिर से यूएन में खड़े होकर के कश्मीर का मुद्ददा उठाया, वहां के लोगो के अधिकारों का मुद्दा उठाया और कहा कि भारत को पाक के साथ में मिलकर के इस मुद्दे का हल टेबल पर करना चाहिए. ये बात जाहिर तौर पर भारत के लिए थोड़ी चिंताजनक रही क्योंकि इस तरह से अगर बाहर के देश बोलते है तो  भारत पर प्रेशर तो बनता ही है.

अब भारत ने भी दिया उसी भाषा में जवाब, सायप्रस का मुद्दा उठा दिया
अब जब तुर्की ने कश्मीर का मामला उठाया तो भारत ने भी सायप्रस का मामला उठा दिया. भारत के विदेश मंत्री जयशंकर ने अपने बयान में साफ़ शब्दों में कह दिया कि हम मानते है सायप्रस के अखंड और पूर्ण देश है, भारत सायप्रस के लिए अपनी तरफ से सपोर्ट जाहिर करता है.

तुर्की नही मानता सायप्रस को, अपनी सेना भेजकर नार्थ सायप्रस किया हुआ है
तुर्की को भारत के इस बयान के बाद में जलन उठ चुकी है क्योंकि तुर्की ने अपनी सेना भेजकर के सायप्रस देश का विभाजन करवा दिया था और नार्थ सायप्रस बनवा दिया था. अब तुर्की मुख्य सायप्रस देश को देश ही नही मानता मगर भारत ने इस नीति का विरोध कर दिया और सायप्रस के देश होने की घोषणा की जो तुर्की के पोलिटिकल इंटरेस्ट पर बड़ी चोट करने जैसा है.

बात सिर्फ यही पर ही नही रूकती है भारत ने यूएन जनरल असेम्बली में भी बयान देते हुए कहा कि कश्मीर भारत का पूर्ण हिस्सा था और हमेशा रहेगा जिसमे पाकिस्तान द्वारा गैर कानूनी रूप से लिया गया हिस्सा भी शामिल है. हम कहते है कि पाकिस्तान उस क्षेत्र को भी तत्काल प्रभाव से खाली करे.

बस यही कुछ एक बाते है जिनको सुनकर के कई सारे लोग है जो ये कह रहे है कि भारत की नीति अब पूरे तरीके से बदल चुकी है और ये अपने आप में काफी अच्छी बात भी है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here