भारत बंद वो भी 27 सितम्बर को, अभी हाल ही में हुआ है बड़ा ऐलान

0
4943

पिछले कुछ समय में अगर हम लोग नजर डाले तो सरकार विरोधी ही नही बल्कि देश विरोधी तत्व भी काफी अधिक बढे है और हर किसी के यहाँ पर अपने मायने है. अगर अभी की बात करे तो इसी कारण से मोदी सरकार को कई सारे फ्रंट पर लड़ाई लडनी पड़ रही है. अभी इन दिनों में किसान संगठनों से लेकर चीन हो या तालिबान सब जगह पर जूझना पड़ा है. इन सबके बीच में एक बड़ी अपडेट और आ रही है और ये सब तब हो रहा है जब पीएम मोदी देश से बाहर गये हुए है.

संयुक्त किसान मोर्चा ने किया भारत बंद का ऐलान, 27 दिसम्बर को होगा
अभी हाल ही में संयुक्त किसान मोर्चा जिसमे बड़ी संख्या में दर्जनों किसान संगठन एक साथ में जुड़े हुए है उन्होंने मिलकर के ऐलान किया है कि 27 दिसम्बर को भारत बंद रहेगा. इस दिन ये लोग व्यापारिक प्रतिष्ठान आदि खुलने से रोकेंगे और इससे देश की अर्थव्यवस्था को और अधिक धक्का लगने वाला है क्योंकि जाहिर तौर पर व्यापारिक गतिविधियाँ बंद होने पर हर किसी का नुकसान होता है.

कृषि कानूनों का मुद्दा फिर से गरमा रहा
इस पूरे बंद के पीछे का कारण कृषि क़ानून जो मोदी सरकार ने पिछले वर्ष लागू किये थे वो है और कोई भी इस बात को लेकर के यकीन नही कर पा रहा है कि जिस बात को लेकर के अब तक टिकैत भी अलग थलग पड चुके है उसे फिर से उबालने की कोशिश की जा रही है और अधिकतर राजनीतिक एक्सपर्ट्स कहते है कि सिर्फ और सिर्फ यूपी चुनाव में फायदा उठाने के लिए इस तरह का कार्यक्रम किया जा रहा है.

इसकी झलक तब ही देखने को मिल जाती है जब आम आदमी पार्टी समेत कई विपक्षी दलों ने भी इसका समर्थन किया है और इस कारण से कई जगहों पर चीजे थोड़ी सी उथल पुथल वाले अंदाज में दिखाई दे सकती है क्योंकि किसान संगठनों को अब राजनीतिक दल भी बंद के लिए सपोर्ट दे रहे है.

ऐसे में भाजपा शासित प्रदेशो में ये हो सकता है अधिक कारगर न हो लेकिन गैर भाजपा शासित प्रदेशो में इस बंद का असर देखने को मिल सकता है. रिपोर्ट्स के अनुसार राज्य सरकारों ने अपने अपने स्तर पर अधिकारियों की ड्यूटी भी लगा दी है ताकि आम लोगो का नुकसान न हो.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here