ये पुराना इंडिया नही है, भारत ने दी इंग्लैंड को साफ़ शब्दों में चेतावनी तो बदल दिया फैसला

0
5864

भारत आज विश्व की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में शुमार हो चुका है और कही न कही भारत की अपनी प्रतिष्ठा विश्व के टॉप पांच बड़े देशो में भी की जाने लगी है लेकिन आज भी कई देश है जो भारत के विज्ञान को लेकर के थोड़े से असहज से नजर आते है और अभी हाल ही में यूके के साथ में ऐसा ही कुछ हुआ है, जब उन्होंने अमेरिका जैसे देशो को ऊपर रखा और भारत को लेकर के थोड़े भेदभाव पूर्ण रवैया दिखाने लगा. इस पर इंडिया थोडा नाराज भी दिख रहा है.

यूके ने विश्व के बाकी कई देशो के टीको वाले लोगो को अपने यहाँ आने पर मान्यता दी, मगर भारत को नही
अभी हाल ही में ब्रिटेन ने कुछ नए नियम निकाले है जिसके तहत अमेरिका और कई पश्चिमी देशो के टीके को उन्होंने मान्यता दे दी है जिनमे अमेरिका और अधिकतर यूरोप के देश शामिल है. यहाँ से आने वाले यात्रियों को को अब इंग्लैंड में कोई टेस्ट आदि नही करवाने होंगे जबकि भारत के टीके को मान्यता नही दी गयी है.

भारत बोला, ये भेदभाव पूर्ण रवैया हम करेंगे कार्यवाही
भारत की तरफ  से एक सीनियर अधिकारी ने अपने बयान में कहा है कि इंग्लैंड की तरफ से जो ये रवैया अपनाया गया है वो पूर्ण रूप से भेदभाव से भरा हुआ है और हम लोग इस चीज को सहन नही करेंगे, इस आधार पर हम लोग जवाबी कार्यवाही भी करने वाले है. भारत की इस चेतावनी का जाहिर तौर पर इंग्लैंड पर असर भी देखने को मिला है और उन्होंने अपना फैसला पलट दिया है.

अब भारत में टीका लगे लोगो को एंट्री देगा इंग्लैंड
अभी के लिए इंग्लैंड ने कहा है कि कोवीशील्ड के डोज लगे हुए लोगो को उनके देश में एंट्री लेने पर किसी तरह क क्वारंटाइन होने की जरूरत नही है. इसी के साथ में ये भारत की बड़ी डिप्लोमेटिक जीत के तौर पर देखा जा रहा है.

अभी भारत यूरोप और अमेरिकी महाद्वीप के और भी देशो के साथ में बातचीत में है और हो सकता है आने वाले समय में WHO के साथ में और भी जगहों और संगठनों में भारत के टीको को वैसी ही मान्यता मिले जैसी बाकी देशो के टीको को मिल रही है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here