कांग्रेस के इस कदम से नाराज हुई मायावती, बोली इस पार्टी से सावधान रहना

0
1105

राजनीती में किसी भी पार्टी या फिर नेता को सबसे अधिक किसी चीज की फ़िक्र नजर आती है तो वो है वोटबैंक. अगर ये कही से भी खिसकने लग जाए तो फिर कही न कही थोड़ी मुश्किल होते हुए तो नजर आती ही है और ये बात हम लोग एक पक्ष में नही बल्कि हर पक्ष में देखते है. इन दिनों में मायावती और कांग्रेस पार्टी के बीच में भी इसी तरह की बहस चल रही है और ये अपने आप में थोडा सा अजीब भी है क्योंकि मामला ही कुछ ऐसा है.

कांग्रेस ने बनाया दलित को सीएम, मायावती बोली ये चुनावी दिखावा
आपको ये तो मालूम ही होगा कि कांग्रेस पार्टी ने अभी हाल ही में चरणजीत सिंह चन्नी को मुख्यमंत्री बनाया है जो पंजाब में एक दलित समुदाय से आते है. उनका सीएम बनना जाहिर तौर पर दलितो को अच्छा लगेगा लेकिन मायावती को ये रास नही आ रहा है. उन्होंने बाकायदा इस पर बयान देते हुए कहा कि ये सिर्फ और सिर्फ एक चुनावी हथकंडा है. दलित वर्ग के लोग इनसे सावधान रहे.

अपने स्टेटमेंट में वो दलितों की हितैषी बनते हुए कहती है कि चरणजीत सिंह चन्नी को सिर्फ और सिर्फ कुछ वक्त के लिए ही सीएम बनाया गया है और ये कांग्रेस पार्टी का चुनावी हथकंडा है. आने वाले जो पंजाब चुनाव होंगे वो किसी दलित के नही बल्कि गैर दलित के नेतृत्व में लडे जाने वाले है. ये बात स्पष्ट कर देती है कि कांग्रेस पार्टी को अभी भी दलितों के ऊपर पूर्ण रूप से भरोसा नही हुआ है.

यूपी चुनावों में भी दलित वोटो की खींचतान
इसे सीधे तौर पर उत्तर प्रदेश में होने वाले अगले विधानसभा चुनावों से जोड़कर के देखा जा रहा है जहाँ पर कांग्रेस पार्टी दलितों की हितैषी बनकर उनके वोट लेने की कोशिश करते हुए नजर आ रही है वही खुद पर उनका एकाधिकार मानने वाली मायावती इसके रास्ते में आड़े आकर के खड़ी हो गयी है.

खैर ये कोई पहली बार नही है जब दलितों को लेकर के इस तरह की राजनीति हुई हो. ये पहले भी कई बार होते हुए आया है और शायद आगे भी नजर आएगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here