तालिबान के लिये खोल दिया चीन ने अपना खजाना, जिनपिंग ने किया बड़ा ऐलान

0
1351

अभी के लिए दुनिया के अलग अलग देशो की तरफ से तालिबान को मान्यता देने के ऊपर संशय है और अधिकतर दुनिया कही न कही तालिबान का विरोध ही कर रही है क्योंकि हर कोई देख रहा है कि ये संगठन किसी भी कीमत पर महिलाओं के साथ में नही है और तो और इसने आम लोगो के जीवन में भी कुछ ख़ास और बड़े परिवर्तन जो आ सकते थे उनको आने से रोक दिया है और लोक तंत्र के तो ये पूरे तरीके से खिलाफ है ही, मगर इन सबसे परे चीन अपने काम में लगा हुआ है.

चीन ने किया ऐलान, तालिबान को देगा 31 मिलियन डॉलर की मदद
अभी तालिबान पॉवर में तो आ गया है लेकिन उसके पास में सरकार को चलाने के लिए पैसा वगेरह मौजूद नही है और इस वक्त में चीन खुलकर के उसकी मदद के लिए आगे आ चुकी है. चीन ने ऐलान के रूप में तालिबान को 31 मिलियन डॉलर की मदद देने की बात कही है और ये अफगानिस्तान जैसे देश को चलाने के लिए एक बार के लिए तो काफी पैसा है जिसकी मदद से तालिबान काम कर सकता है.

मुफ्त में नही है पैसा, बदले में रिसोर्स पर नजर
आज की तारीख में अगर चीन तालिबान से इतना प्रेम जता रहा है और उसकी मदद कर रहा है तो उसके पीछे उसकी भी मंशा हर कोई बहुत ही अच्छे से समझ रहा है. चीन अफगानिस्तान के कई रिसोर्स जैसे ताम्बा और लिथियम आदि की माइनिंग करके अफगानिस्तान से अरबो खरबों डॉलर बनाने की उम्मीद लगाये बैठा है.

ऐसे में अगर तालिबान के साथ में उसका काफी अच्छा सम्बन्ध रहा है तो जाहिर तौर पर कही न कही फायदा तो होना ही है और ये बात दुनिया भी अच्छे से देख रही है. माना जा रहा है कि चीन आने  वाले एक से दो वर्षो में ही यहाँ पर खनन का काम शुरू कर कर सकता है और इस जमीन से काफी पैसा बना सकता है.

बायडन की चुप्पी पैदा कर रही संदेह
आज की तारीख में अफगानिस्तान में चीन की पकड़ मजबूत होते हुए देखकर के अमेरिका का जैसा रिएक्शन देखने की उम्मीद मिल सकती थी वैसा कुछ भी नजर नही आ रहा है. ये अपने आप में थोडा अजीब भी है कि अमेरिका इन सब पर चुप है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here