तालिबान के समर्थन में उतरे पुतिन, कह दी इतनी बड़ी बात

0
3423

अभी के लिये दुनिया के सारे देश इस बात की उधेड़बुन में लगे हुए है कि अफगानिस्तान में जो अस्थिरता चल रही है उस पर किस तरह का निर्णय किया जाए? हर कोई काफी अधिक चिंतित है और जाहिर तौर पर ये चिंता होनी लाजमी भी है क्योंकि एशिया के इस महत्वपूर्ण स्थान से लोगो के काफी सारे इंटरेस्ट जुड़े हुए भी है ये भी हम लोग बखूबी जानते ही है. अगर बात करे अभी फ़िलहाल की तो रूस ने तो अपनी तरफ से अपनी स्थिति और परिस्थिति दोनों को ही पूरी तरह से स्पष्ट कर दिया है.

पुतिन बोले, उम्मीद है तालिबान सभ्य तरीके से पेश आएगा
अभी हाल ही में रूस के राष्ट्रपति पुतिन ने जो बयान दिया है वो अपने आप में रूस के स्टैंड को एकदम स्पष्ट कर देता है. इसमें वो कहते है कि तालिबान से उन्हें उम्मीद है कि वो लोगो के साथ में सभ्य तरीके से पेश आएगा. हमें अफगानिस्तान को तोड़ने में कोई भी दिलचस्पी नही है क्योंकि अगर वो ही नही रहा तो फिर वहाँ पर हम लोग बातचीत करनी होगी तो फिर वो किससे करेंगे?

रूस का दूतावास भी बना रहेगा
इसी के साथ में पुतिन ने ये ऐलान भी किया कि उनका जो अफगानिस्तान में दूतावास बना हुआ है वो भी रहेगा यानी मास्को के साथ में उनके डिप्लोमेटिक चैनल पहले की तरह बने रहेंगे. कही न कही रूस ने अपनी तरफ से तालिबान के शासन को हरी झंडी दे दी है और इससे पता चलता है कि जो भी हुआ है वो साफ़ तौर पर हम लोग देख ही सकते है.

रूस को मिलेगा काफी फायदा, तालिबान में है प्रभाव
रूस की बात करे तो उनका पहले से ही तालिबान में काफी अधिक जबरदस्त प्रभाव है और उनका साथी चीन भी तालिबान से काफी अच्छी ट्यूनिंग रखता है तो फिर ऐसे में उनके लिए अफगानिस्तान के रीजन में उनके लिये अपना प्रभाव जमाना काफी अधिक आसान हो जाएगा.

तो ऐसे में अब धीरे धीरे तालिबान को विदेशी ताकतों से मान्यता मिलने लग गयी है और आगे चलकर के भारत इस पर क्या कुछ निर्णय लेता है ये भी देखने वाली बात ही होगी. हालांकि अभी भारत ने तालिबान को लेकर कोई भी सकारात्मक क्लू नही दिया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here