तालिबान का घमंड सातवे आसमान पर, अमेरिका को धमकी दे दी

0
2743

अभी के इन दिनों में तालिबान अफगानिस्तान में सत्ता पर काबिज हो चुका है और इसने धीरे धीरे पूरे देश पर कण्ट्रोल करना शुरू कर लिया है. ऐसे में हर कोई एक स्थिति तो समझ ही रहा है कि इनको चुनौती देने वाला अब पूरे देश में शायद ही कोई बच रहा है, मगर एक बात कही न कही हम लोगो को समझ में आ चुकी है कि ऐसे में इनको घमंड तो काफी अधिक आ ही गया है और इस वजह से ये बड़ी बड़ी सुपर पॉवर को भी अपने आगे छोटा समझने लगे है.

अमेरिका को डायरेक्ट चेतावनी, 31 अगस्त से पहले निकल लो
अभी हाल ही में अमेरिका को तालिबान से साफ़ तौर पर ये वार्निंग दी जा चुकी है कि इस 31 अगस्त से पहले अमेरिका जो भी अपने सोल्जर आदि है सबको लेकर के अफगानिस्तान से तुरंत बाहर निकल जाए वरना इसका अंजाम अच्छा नही होगा. अगर इसके बाद में भी अमेरिकी सैनिक काबुल की धरती पर रहेंगे तो फिर उनको इसका परिणाम भुगतने के लिए तैयार रहना होगा. कही न कही अब तालिबान का अहंकार सातवे आसमान पर पहुँच चुका है.

अभी भी कई अमेरिकी अफगानिस्तान में, सैनिको को रूकना पड़ सकता है
अमेरिका को अभी भी अफगानिस्तान में कई काम पूर्ण करने है जिनको करके उनके नागरिक धीरे धीरे करके निकल रहे है और इस वजह से अगर डिले होता है तो फिर उनके सैनिक और भी लम्बे समय तक काबुल में जमे रह सकते है और हो सकता है काबुल एयरपोर्ट को भी उनके कब्जे में लेकर के रख ले जैसा कि एक बार नही बल्कि कई बार होते रहता है. मगर अब तालिबान का सब्र जवाब देने लगा है और वो किसी भी पल कुछ भी कर सकते है.

अगर तालिबान का सब्र टूटा, तो मामला उनके हाथ से निकल सकता है
अगर तालिबानियों का सब्र टूटा और वो अमेरिका या उनके सैनिको को नुकसान पहुंचाने की कोशिश करते है तो फिर ये जाहिर सी बात है कि अमेरिका अपनी वापसी को रोक देगा और दुबारा से काबुल से तालिबान को निकाल फेंकेगा. मगर ऐसा होने के चांस अभी के लिए तो कम ही नजर आ रहे है.

हाँ लेकिन इस तरह के फैसले के कारण से बायडन की आलोचना जरुर की जा रही है. जिस तरह से उनको अफगानिस्तान से निकासी कार्यक्रम को अंजाम दिया है उसे इतिहास में काफी बुरे फैसलों के रूप में देखा जाने वाला है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here