तालिबान के सत्ता में आते ही चीन ने अपनी घटिया चाल चलनी शुरू कर दी है

0
9644

आपको पता ही होगा कि अभी के लिये अफगानिस्तान में किस तरह से अचानक से तालिबान सत्ता में आ चुका है और उसके पॉवर में आने के बाद से ही अधिकतर लोग काफी अधिक टेंशन में आ गये है. दुनिया भर में लोगो के बीच में एक तरह से टेंशन भरा हुआ माहौल है और ये हम सभी लोग बहुत ही अच्छे से देख पा रहे है कि क्या कुछ चल रहा है? अगर अभी की बात करे तो इन दिनों में सब परेशान है लेकिन एक देश है जो काफी खुश टाइप नजर आ रहा है और वो है चीन.

चीन तालिबान को मान्यता देने में सबसे आगे, वहां के खनिजो की करना चाहता है उपयोग
जैसे ही अमेरिका अफगानिस्तान से निकला है वैसे ही तालिबान पर चीन ने अपना प्रभाव ज़माना शुरू आकर दिया है. भारत के इफ़ेक्ट को वहां से रिप्लेस करके चीन तालिबानियों से अपना सामजस्य बिठाने लग गया है. बकायदा इनकी आपस में मीटिंग भी हो गयी है और तो और बात सिर्फ यही पर ही नही रूकती है. खबरे है कि वहां के खनन कार्यो में वो जल्द ही पैसा कमाना शुरू कर सकता है और सेंट्रल एशिया में भी अपना प्रभाव बढ़ाएगा ये भारत के लिए बुरा है.

अमेरिका कमजोर स्थिति में, ताइवान पर कब्जा जमाने की वार्निंग
अभी हाल ही में चीन ने अपने सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स की मदद से ताइवान को चेतावनी देते हुए कहा है कि तुम भी संभल जाओ तुम्हारा हाल ही अफगानिस्तान जैसा ही होने वाला है. जिस दिन हम तुम्हारे देश में घुसेंगे और तुम ये सोचोगे कि अमेरिकी सेना हमारी मदद करने के लिए आती ही होगी तो ऐसा कभी नही होगा, वो तुम्हे भी अफगानिस्तान की तरह छोड़कर के चले जायेंगे.

इस तरह से चीन ताइवान का मोरल डाउन करने की कोशिश कर रहा है और इसी के साथ में अफगानिस्तान में अपने स्ट्रेटजिक इंटरेस्ट तो खड़े कर ही रहा है. इससे पता चल गया है कि चीन को तालिबान के आगमन से कोई नुकसान नही बल्कि फायदा ही हो रहा है और ये हम लोग साफ़ तौर पर देख ही सकते है.

अब अगली चुनौती सीधे तौर पर अमेरिका के सामने है कि वो किस तरह से अपने साथी मित्रो को फिर से भरोसा दिला पाता है कि कल को अगर उनका सामना चीन या फिर रूस से होता है तो वो उनको अफगानियो की तरह अकेला नही छोड़ देगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here