तालिबान के अफगानिस्तान पर कब्जा करने के बीच मोदी ने एक साहसिक निर्णय ले लिया है

0
5580

भारत सरकार पिछले कुछ समय से लगातार अफगानिस्तान में जो कुछ भी हो है उस पर नजर बनाये हुए है. जिस तरह से तालिबान अमेरिका के निकलने के कुछ समय बाद से ही लगातार एक के बाद में एक शहर को कब्जा करता चला गया और पूरे अफगान को अपने अन्दर मिलाता चला गया इसी बीच एक और बड़ी खबर सामने आ रही है जो कई लोगो को बहुत ही हैरान भी कर रही है. कई लोग ऐसे भी है जो इसे बहुत ही अधिक साहसिक कदम मान रहे है जो भारत अब करने जा रहा है.

अफगानिस्तान में फंसे भारत समर्थक नागरिको को शरण देगी भारत सरकार
अफगानिस्तान में जो भी शान्ति पसंद पत्रकार, खिलाड़ी, एक्टिविस्ट और कई लोग है जो अफगानिस्तान में रहकर के भारत के सपोर्ट में खड़े रहते थे, जिन्होंने लम्बे समय तक भारत सरकार के साथ में मिलकर के अफगानिस्तान में काम भी किया है उनको अब तालिबान के हाथो में नही छोड़ा जाएगा बल्कि उनको बचाने के ऊपर काम शुरू कर दिया गया है. जी हाँ, इन लोगो को अब भारत में सरकार शरण देने के ऊपर विचार कर रही है.

ये जो भी अफगान नागरिक है इनको भारत में लॉन्ग टर्म वीजा प्रदान कर दिया जाएगा जिस आधार पर ये लोग भारत में आकर के रह पाएंगे और अपने कार्यो को गति दे सकेंगे. अमेरिका और यूरोप के कुछ देशो के बाद में ये साहसिक निर्णय करने वाला भारत अगला देश बना है जो लोकतंत्र की रक्षा के लिए बढ़ चढ़कर के कदम उठा रहा है और भारत के इस निर्णय की प्रशंसा भी की जा रही है क्योंकि अगर भारत सामने नही आता तो शायद ये लोग तालिबान की भेट चढ़ ही जाते.

अभी किस तरह से वरीयता मिलेगी, ये तय नही
अभी भारत इस पर मीटिंग्स आदि कर रहा है लेकिन किस आधार पर और  किस वरीयता के अनुसार इन अफगान के नागरिको को भारत में लॉन्ग टर्म वीजा प्रदान किया जाएगा ये तय नही है. हालांकि अभी सरकार को जो भी करना है वो तेजी से ही करना होगा क्योंकि हमारे पास में कोई अधिक दिन नही बचे है, कुछ दिनों में हो सकता है काबुल पर भी धावा बोल दिया जाये और पूरा देश तालिबान हो जाए.

भारत का रोल यहाँ पर आज की तारीख में अधिक क्रिटिकल इसलिए भी हो जाता है क्योंकि भारत आज की डेट में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद् का अध्यक्ष भी है. खैर भविष्य के गर्त में क्या छुपा है ये तो अभी कोई नही जानता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here