मोदी सरकार के सामने खड़ी हो रही नयी चुनौती, प्रशासन में हडकंप

0
2492

अभी पिछले दो वर्षो से देश में करोना को लेकर के क्या कुछ स्थिति बनी है वो किसी से भी छुपी हुई नही है. अब ऐसे वक्त में लोग चिंतित तो है मगर अच्छी बात ये भी है कि दो लहर निकल चुकी है और अधिकतर लोगो को टीका लग चुका है म्मागर सबसे बड़ी दिक्कत यहाँ पर ये हो रही है कि अब भारत के सामने फिर से तीसरी लहर का रिस्क मंडराने लगा है और इसका एक बड़ा उदाहरण हाल ही में पंजाब में देखने में आया है जिसे सरकारी संगठन काफी गंभीरता से ले रहे है.

लुधियाना के दो सरकारी स्कूलों में टेस्टिंग, एक साथ 40 बच्चे पोजेटिव पाए गये
अभी हाल ही में लुधियाना में रैपिड टेस्टिंग की गयी और जब ये टेस्टिंग हुई तो इसमें एक साथ में 40 बच्चे पोजेटिव पाए गये है. ऐसा ही कुछ नजारा कुछ समय पहले राजस्थान के अलवर में भी नजर आया है जिसमे कई बच्चे पोजेटिव होने लगे थे. यानी देश के अन्दर कई ऐसे क्लस्टर बन रहे है जहाँ पर एक साथ में कई बच्चे पोजेटिव होते हुए नजर आ रहे है.

पहले ही एक्सपर्ट दे चुके है बच्चो पर रिस्क की चेतावनी
मेडिकल जगत के एक्सपर्ट पहले ही इस बात की चेतावनी दे चुके है कि भारत में एक बार फिर से तीसरी लहर सितम्बर अक्तूबर के आस पास में आ सकती है और इसका सबसे अधिक प्रभाव बच्चो पर देखने में आएगा. इसके पीछे का एक कारण है उनको अभी तक टीके नही लगे है और दूसरा कारण है अब तक सबसे अधिक बचे हुए भी यही ही है.

इस कारण से मोदी सरकार हो या फिर राज्य सरकारे हो सब लोग अन्दर ही अन्दर पूरी तैयारी के साथ में लगे हुए है क्योंकि पहले के जैसी स्थिति किसी भी समय आ सकती है और ऐसे वक्त में जनता फिर से ऑक्सीजन या फिर दवाई आदि की कमी को किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नही करेगी क्योंकि ऐसा दो बार लोग झेल चुके है, तीसरी बार ऐसा कुछ हो तो फिर सरकार पर सवाल उठने लगेंगे.

अमेरिका अभी इसी तरह की दिक्कत से गुजर रहा है. यहाँ पर एक दिन में डेढ़ लाख तक केस आ रहे है और ये अपने आप में काफी बड़ी संख्या है. किस तरह से इससे निपटा जाए ये अभी तक कोई भी समझ नही पा रहा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here