भारत के आगे झुक गया तालिबान, दबाव के बाद अपनी करतूत और फैसला बदला

0
5723

अभी आपको मालूम ही होगा कि अफगानिस्तान में किस तरह के हालात बने हुए है. लोग इस कारण से बहुत ही अधिक चिंता वाली स्थिति में भी है क्योंकि कल को किस पल क्या नजारे देखने को मिल जाए इसकी तो हम लोग कल्पना भी नही कर सकते है और ऐसे समय में ये अपने आप में जरूरी हो गया है कि भारत कम से कम जो चीजे अपने बस में हो सकता है वो तो करे. अभी हाल ही में भारत ने वो करके भी दिखाया है जिसकी समस्त भारतीय समुदाय द्वारा और ख़ास तौर पर सिख समुदाय के द्वारा जमकर के तारीफ़ की जा रही है.

तालिबान ने तोड़ दिया था सिख गुरुद्वारा, निशान साहिब उठाकर ले गये थे
तालिबान के लोगो ने अफगान में अपने कब्जो के दौरान जगह जगह पर तोड़ फोड़ की है. उनको जब एक गुरुद्वारा नजर आया तो फिर उसको भी क्षति पहुंचाई और उसके अन्दर जो पवित्र निशान साहिब होता है उसे भी ये लोग उठाकर के वहां से ले गये. ये एक तरह से सिख समुदाय का अपमान करने के जैसा था और जाहिर तौर पर उनकी मंशा भी यही करने की ही थी.

भारत ने तुरंत हडकाया, वापिस लाकर रख दिया निशान साहिब
इस पर भारत ने तुरंत ही कड़ी आपत्ति जताई और कहा कि ये जो भी तालिबान वालो ने किया है वो ठीक नही है. न सिर्फ इस पर कडा विरोध और आपत्ति जताई बल्कि डिप्लोमेटिक रूप से भारत ने सशक्त कार्यवाही करने की प्रक्रिया पर भी बात करनी शुरू कर दी. तालिबान समझ गया कि अगर ये सब करेंगे तो भारत हमें यूएन में छोड़ने वाला नही है इसी के कारण से उसने अपने अधिकारियों को फिर से गुरुद्वारा भेजा.

उनके साथ में निशान साहिब भी था. वो लोग वहां पर गये और जाकर के सम्मान के साथ में उसे वहाँ पर रख दिया है. तालिबान ने वैसे तो हर जगह पर बस नाश ही किया है लेकिन ये पहली बार हुआ है जब किसी सरकार के दबाव में आकर के उन्होंने अपने किये पर शर्मिंदगी महसूस की और वापिस  जाकर के उसे ठीक करने की कोशिश भी की है.

पुनीत सिंह चंडोक ने दी जानकारी, जताया सरकार का आभार
भारत विश्व फोरम के चेयरमेन और जानी मानी हस्ती पुनीत सिंह चंडोक ने इस बारे में जानकारी दी और इस काम के लिए उन्होंने तहे दिल से भारत सरकार का आभार भी जताया है. सिख समुदाय काफी अधिक प्रसन्न महसूस कर रहा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here