अब अखिलेश के चाचा ने दी योगी जी को नसीहत, कहा मर्यादा मे रहो

0
4242

अभी उत्तर प्रदेश में चुनावी चीजे आये दिन कुछ न कुछ नए गुल खिला रही है और हमें बहुत कुछ ऐसा देखने को भी मिल रहा है जिसकी कल्पना एक बार के लिए हो पाना थोडा सा मुश्किल है क्योंकि काफी बड़े और उम्रदराज हो चुके नेता भी कई ऐसी बाते बोल रहे है जो कई बार छोटे छोटे बच्चे कहते है. खैर पहले तो ये जान लेते है कि ये मामला आखिर कहाँ से शुरू हुआ और इसमें शिवपाल सिंह यादव की एंट्री क्यों हो गयी है?

योगी और अखिलेश के बीच अब्बाजान शब्द को लेकर हुई थी बहस
दरअसल ये बात एक टीवी शो की है जिसमे अखिलेश ने कह दिया था कि इन बीजेपी वालो से बड़े हिन्दू तो हम है. इस पर जवाब देते हुए योगी आदित्यनाथ ने कह दिया था इनके अब्बाजान तो कहते थे अयोध्या में परिंदा भी पर नही चला पायेगा. इस पर अखिलेश नाराज हो गये थे और उन्होंने नाराज होकर के एक प्रेस वार्ता की और कहा कि मुख्यमंत्री मेरे पिता के बारे में अगर कुछ बोलेंगे तो फिर वो अपने पिता के बारे में सुनने के लिए भी पूरी तरह से तैयार रहे.

अब शिवपाल यादव की एंट्री, दी मर्यादा में रहने की नसीहत
अखिलेश यादव के चाचा से जब इस मामले में सवाल किया गया कि वो इस पर क्या कहना चाहते है तो इस पर जवाब देते हुए शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि राजनेताओं को भाषा की मर्यादा का हमेशा ध्यान रखना चाहिए, वो जो कुछ भी बोलते है उसका सीधा सीधा असर जनता के ऊपर पड़ता है. अगर आप किन्ही ऐसे शब्दों का इस्तेमाल कर रहे है तो फिर जरा सोच समझकर के करे. कही न कही शिवपाल यादव का इशारा अब्बा जैसे शब्दों को टालने की तरफ ही था.

हालांकि भाजपा की तरफ से इस पर स्टैंड क्लियर है कि इस पर हमने कुछ भी गलत नही कहा है क्योंकि अब्बा शब्द का मतलब भी पिता ही होगा है और इसमें कोई भी गलत शब्द नही है तो फिर इसमें झुकने वाली तो कोई बात ही नही है, जबकि समाजवादी पार्टी के लोग इसे एक सोचा समझा विवाद बता रहे है.

हाँ योगी आदित्यनाथ को लेकर के एक चीज बड़ी ही क्लियर है कि अब जब वो कुछ बोल देते है तो फिर उससे पीछे तो कभी भूलकर के भी नही हटते है और यहाँ पर इस वजह से विवाद काफी अधिक खींच लिया गया है. ऐसे में आगे इसके क्या कुछ परिणाम निकलकर के आयेंगे ये तो हम खुद भी नही जानते है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here