हिन्दुओ को खुश करने के लिये अखिलेश सुधार रहे पुरानी गलती, उठाया बड़ा कदम

0
5898

अभी उत्तर प्रदेश में चुनावी माहौल गर्म हो चुका है और दोनों ही खेमे जिसमे एक तरफ सपा और बसपा ऐसी पार्टियाँ है और दूसरी तरफ भारतीय जनता पार्टी है दोनों ही अपने अपने तीर कमान कसकर के तैयार बैठे हुए है. और ये तो हम लोगो ने भी हर कदम पर हर मौके पर देखा ही है कि किस  तरह से हर कोई अपने अपने वोट ही साध रहा है और इसी कड़ी में एक बड़ा बदलाव अखिलेश यादव की पार्टी में भी होते हुए दिखाई दे रहा है जिसकी उम्मीद किसी को भी कुछ समय पहले तक नही थी.

अखिलेश बने परशुराम भटक तो मुलायम है हनुमान जी के पुजारी
अभी हाल ही के बयान में उन्होंने खुद कहा है कि हम लोग भारतीय जनता पार्टी से भी बड़े वाले हिन्दू है. नेताजी यानी मेरे पिताजी कितने समय से हनुमान जी की पूजा करते रहे है ये किसी को पता भी नही है शायद उस समय हम थे भी नही. इसके बाद में अखिलेश यादव ने खुदको भी परशुराम जी महाराज का भक्त बताया है और अपने आपको हिन्दू देवी देवताओं का आराध्य बताकर के अपनी छवि को बेहतर करने की कोशिश की है.

राम मंदिर के कारण सपा को लेकर के कसा जाता है तंज
दरअसल जब राम मंदिर के लिए कारसेवक जमा हुए थे तब मुलायम सरकार में उनके साथ में क्या हुआ था ये बात किसी से भी छुपी हुई नही है और इस वजह से समाजवादी पार्टी को विपक्षी लोग हिन्दू विरोधी कहने में देर भी नही लगाते है. इस कारण से धार्मिक वोटर जो कि सही में धर्म को अर्थ मानते हुए वोट देते है वो इससे हो सकता है कि प्रभावित हो जाए.

मायावती भी खेल रही है सेम कार्ड
अगर हम दूसरी पार्टियों की बात करे तो बाकी पार्टियाँ भी वही बात कर रही है. मायावती की पार्टी यानी बसपा तो अभी हाल ही में ये ऐलान तक कर चुकी है कि अगर उनकी पार्टी सत्ता में आती है तो फिर वो राम राम मंदिर का निर्माण भी करवाएगी और अधिक तेजी के साथ में करवाएगी.

कुल मिलाकर के देखे तो सारी पार्टियों का रवैया धीरे धीरे करके बदलता ही चला जा रहा है और ये अपने आप में हैरान करता है कि देश की राजनीति जो कभी केवल तुश्तीकरन वाली हुआ करती थी वो अब किसी और रास्ते पर ही चली जा रही है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here