वो एक फोन कॉल, जिसने छीन ली मोदी सरकार के 11 मंत्रियो की कुर्सी

0
5714

आपको पता होगा कि अभी हाल ही में मोदी केबिनेट में बहुत ही बड़ा फेरबदल हुआ है और इसमें कई नए चेहरे जुड़े है तो कई पुरानो की छुट्टी कर दी गयी है. जाहिर तौर पर इसके पीछे उनके द्वारा किये गये कार्यो का मूल्यांकन सबसे बड़ा आधार था और इस कारण से कई मंत्री लगातार बने रहे जिनमे गडकरी जैसे नाम शामिल थे और कई मंत्री बाहर किये गये जिनमे डॉक्टर हर्षवर्धन जैसे नाम शामिल थे. मगर जब मोदी जी कमरे में बैठकर के परदे के सामने सबको बता रहे थे तो परदे के पीछे कुछ एक कॉल भी हुए थे.

जेपी नड्डा ने किया था मंत्रियो को फोन कॉल, इस्तीफ़ा देने को कहा
अभी बीते बुधवार को आपको मालूम हो तो प्रधानमंत्री मोदी ने केबिनेट में फेर बदल की प्रक्रिया शुरू कर दी थी लेकिन ऐसे समय में सबसे कठिन था मंत्रियो को फोन करके उनसे इस्तीफा मांगना, इस पर इसकी जिम्मेदारी भाजपा के अध्यक्ष जेपी नड्डा ने उठायी. उन्होंने एक एक करके सारे 11 केन्द्रीय मंत्रियो जिनमे रविशंकर प्रसाद, डॉक्टर हर्षवर्धन और रमेश पोखरियाल निशंक जैसे सभी केन्द्रीय मंत्री शामिल थे उनको फोन लगाया और उनको भारी मन के साथ में इस्तीफा देने के लिए कहा.

कुछ हद तक इन मंत्रियो के पास में सूत्रों से खबर पहुँच जाती है कि आपको इस्तीफा देना पड़ेगा लेकिन जब भाजपा अध्यक्ष ने इनको आधिकारिक फोन करके जानकारी दी कि आपको मंत्री परिषद् से बाहर करने का  निर्णय किया जाता है तब जाकर के कन्फर्म हो पाता है.

खैर एक बात तो है ही कि भाजपा में किसी को भी कोई स्थायी पद तो सौंपा नही जाता है. हर किसी का कार्य और संगठन आदि बदलता रहता है ताकि वो कही एक ही पद पर बने रहने के आदि न हो जाये. कही न कही ये ही असली लोकतंत्र की पहचान भी कही जाती है और इसमें कोई भी शक नही है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here