भारत ने पहली बार चीन के खिलाफ इतना बड़ा और हिम्मत वाला फैसला लिया है

0
8298

भारत और चीन के बीच में  पिछले कुछ वर्षो में सम्बन्ध बेहतर होने की बजाय खराब ही हुए है और ये हम लोगो ने लगभग हर अस्पेक्ट में देखा है. कही न कही डिप्लोमेटिक टॉक के बावजूद चीजे ठीक होने की बजाय बिगड़ी ही है और अब भारत चीन पर भरोसा नही कर सकता है कि कब वो क्या कर दे? ऐसे में हमें तो अपनी तरफ से मजबूत करना ही होगा जिस सम्बन्ध में मोदी सरकार ने वो किया है जिसकी उम्मीद शायद चीन भी नही करता था.

चीन बॉर्डर पर भेजे गये अतिरिक्त 50 हजार सैनिक, पहली बार भेजा गया इतना भारी सुरक्षा
बल इतिहास में पहली बार भारत की सरकार ने एक साथ में चीन से लगी सीमा की सुरक्षा करने के लिए 50 हजार से भी अधिक सैनिक भेज दिए है. आज से पहले कभी भी किसी भी सरकार ने चीनी सीमा पर इतनी भारी संख्या में सैनिको की तैनाती नही की थी लेकिन अभी हाल ही में गलवान घाटी में जो हुआ है उसके बाद में मोदी सरकार ने इस सीमा पर बढ़ रही गंभीरता को समझ लिया है और अपनी तरफ से तैनाती शुरू कर दी है क्योंकि चीन कभी भी कुछ भी कर सकता है.

इस पर इंटरनेशनल मीडिया और चीन अपनी तरफ से भारत को काफी बढ़ चढ़कर आगे आने वाला बता रहा है लेकिन भारत अभी फ़िलहाल विश्व को अनसुना करके अपनी तरफ से जो कार्यवाही कर सकते है वो कर रह है ताकि चीन से अरुणाचल और सिक्किम जैसे राज्यों की सुरक्षा की जा सके. अब बदलते वक्त के साथ में मोदी सरकार समझ चुकी है कि पाक में उतना दम नही है इसलिए वहाँ से सैनिक कम करके चीनी बॉर्डर पर तैनात करने में ही फायदा है.

हालांकि इसका एक दूसरा ये पहलू ये भी है कि दो दो बॉर्डर इतने अधिक एक्टिव होने पर भारत पर इसका खर्च भी काफी अधिक बढ़ जायेगा लेकिन राष्ट्रीय सुरक्षा के लिये अगर पैसा अधिक खर्च हो भी जाता है तो उसमे कोई इतनी अधिक चिंता वाली बात नजर नही आती है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here