इंदिरा गांधी की इस बड़ी गलती को सुधारने का काम शुरू कर चुके है पीएम मोदी

0
3088

अक्सर लीडर हमारे दिलो के करीब होते है और हमें कई मायनों में वो पसंद भी होते है मगर जरुरी नही है कि उनके हर फैसले हमारे लिये अच्छे और कारगर ही हो. ऐसा हम लोग एक नही बल्कि कई बार होते हुए देखते है और ये बात हर कोई जानता है. खैर जो भी है अगर हम लोग बात करे अभी के हिसाब से तो इंदिरा गांधी की इमरजेंसी से लेकर के कई गलत फैसले थे. उनसे जो नुकसान होना था वो तो हो चुका है लेकिन अब इनको सुधारने  का समय भी आ ही चुका है.

बैंको राष्ट्रीयकरण से किया था बैंकिंग व्यवस्था को बेहाल, अब निजीकरण के साथ लोगो को जग रही उम्मीद
आपको अगर मालूम हो तो इंदिरा गांधी की सरकार ने अपने समयकाल में बड़े बड़े बैंको का राष्ट्रीयकरण कर दिया था. इस कारण से देश के लगभग हर सरकारी बैंक में आज हालात बहुत ही अधिक खस्ता है. इनके पास न तो अच्छा स्टाफ है, न बढ़िया इन्फ्रा है और न ही वर्ल्ड क्लास सुविधाएं है. कस्टमर तो परेशान होता ही है साथ ही साथ में इन बैंको एनपीए और स्कैम भी बढे है, जबकि दूसरी तरफ निजी बैंक काफी अच्छे से परफॉर्म कर रहे है.

इसी को देखते हुए मोदी सरकार ने सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया, इंडियन ओवरसीज बैंक और बैंक ऑफ महाराष्ट्र के निजीकरण की शुरुआत कर दी है, इसके आलावा भी अभी लिस्ट में और कई नाम आयेंगे. ऐसा करने से इन बैंको की क्षमता और प्रोडक्टिविटी में भी इजाफा होगा ऐसा माना जा रहा है. अगर इंदिरा गांधी ने बैंको पहले राष्ट्रीय न करके निजी किया होता तो आज शायद बैंकिंग व्यवस्था आज से भी दस कदम आगे होती और लोगो का जीवन और अधिक बेहतर होता.

खैर जो भी है अभी की ये जो भी स्थिति है उसको देखते हुए हम लोग एक बात तो कह ही सकते है कि मोदी स्सर्कार पहले की जो गलतियाँ है उनको सुधारते हुए चीजो को बेहतर करने की तो हर संभव कोशिश कर ही रही है जो एक अच्छी पहल है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here