इस वजह से आपस में फिर भिड़े ममता और मोदी, ममता ने केंद्र का आदेश मानने से किया इनकार

0
1761

अभी फ़िलहाल किन्ही दो पार्टियों के बीच में अगर सबसे ज्यादा तकरार देखने में आती है तो वो दो ही है और वो है टीएमसी और बीजेपी. इन दोनों ही पार्टियों के बीच में सत्ता के संघर्ष की लड़ाई काफी जोर शोर से चल रही है, मगर एक बात तो हर कोई जानता ही है कि फ़िलहाल के समय में केंद्र अधिक पॉवरफुल है और किसी न किसी वजह से वो ममता बनर्जी की सरकार को दबा सकते है. अभी हाल ही में भी ऐसा ही कुछ होते हुए नजर आ रहा है.

केंद्र ने ममता के चीफ सेक्रेटरी का कर दिया दिल्ली ट्रांसफर, माने जाते है ममता के राईट हैण्ड
केंद्र सरकार ने हाल ही में ममता बनर्जी की सरकार में चीफ सेक्रेटरी के पद पर तैनात अलपन बंदोपाध्याय का ट्रांसफर दिल्ली कर दिया है. अब इस मामले को लेकर के उनको दिल्ली में तलब भी किया गया था लेकिन वो वहां पर नही गये और बंगाल में ही अपना काम करते रहे. ममता बनर्जी ने बाकायदा चिट्ठी लिखकर के अपने अफसर को केंद्र में भेजने इ इनकार कर दिया है.

वही केंद्र का क़ानून के हिसाब से ये आर्डर तो राज्य को मानना ही पड़ेगा और ममता बनर्जी का कहना है कि अभी अभी ही हमारे यहाँ पर यास तूफ़ान आया था और हालत काफी खराब है, ऐसे वक्त में वो अपने चीफ सेक्रेटरी को वापिस नही भेज सकती है. ये एक ऐसी स्थिति है जिसमे राज्य और केंद्र सरकार में सत्ता का टकराव हो गया है और ऐसे में कई लोग ये कह रहे है कि ममता बनर्जी को तो आगे और भी कई बड़ी दिक्कते देखनी पड़ेगी क्योंकि राज्य का केन्द्र के सामने ऐसे विरोध में ज्यादा खड़े होना उसे टिका नही सकता है.

खैर अभी हो सकता है ममता इस मामले को अदालत में ले जाए लेकिन कोई भी बचाव की गुंजाइश तो नजर आती ही नही है क्योंकि ऐसे बड़े अफसरों को पद देना या एक्सटेंशन देना सब कुछ एक तरह से केंद्र के हाथ में ही अधिकतर होता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here