इतना जनसमर्थन होते हुए भी बंगाल क्यों हार गयी बीजेपी, प्रशांत किशोर ने दिया जवाब

0
3026

आपने देखा ही होगा कि पश्चिम बंगाल में जीत को हासिल करने के लिए भारतीय जनता पार्टी ने कितनी ज्यादा मेहनत की थी. कही न कही जिस तरह से पीएम मोदी और शाह खुद लगे हुए थे उसके बाद में एक बार के लिए हर किसी को लगने लगा था कि अब बंगाल में बीजेपी की सरकार आने से कोई रोक नही पायेगा, मगर ऐसा हो नही पाया और ये काफी चकित करने वाला था. इस पर जवाब और सवाल किये गये है तो कुछ एक बाते सामने आयी है जो हमें और आपको मालूम होनी चाहिए.

प्रशांत किशोर का जवाब, लोकसभा वाली नीति को ही आगे बढाने के चलते हुई गडबडी
आपको बता दे प्रशांत किशोर अब राजनीतिक काम छोड़ चुके है और इसके बाद में दिए एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा कि इस बात में कोई भी शक नही है कि पीएम मोदी बंगाल में लोकप्रिय है और इस कारण से ही उनको बंगाल में 37 प्रतिशत वोट मिले, हालाँकि जीतने के लिए 45 प्रतिशत चाहिए. ये जो छोटी सी दूरी रह गयी इसके पीछे का सबसे बड़ा कारण तो था बीजेपी ने लोकसभा चुनाव में जो नीति थी उसी को ही विधानसभा के लिए आगे बढ़ा दिया जो नही करना था.

फिर टीएमसी ने बीजेपी के हर कदम को देखा परखा और उसी के हिसाब से अपनी प्लानिंग की तो ऐसे में वो इसमें बढ़ता बना रही थी थी. कही न कही अगर बीजेपी ये चीजे ठीक कर लेती तो शायद आज भाजपा की सरकार बन ही गयी होती बस थोड़ी सी कमी रह गयी थी. हालांकि अब भी भाजपा ने जो बंगाल में हासिल किया है वो कोई कम नही है और इसके कारण से आज ममता बनर्जी टेंशन में भी है.

खैर जो भी है अभी के हिसाब से अगर हम लोग बात करते है तो चीजे कही न कही अब बीजेपी के कण्ट्रोल में अगले पांच साल के लिए तो रहेगी नही, लेकिन वो जिस तरह से रिस्पोंस उन्हें बंगाल में मिला है उसके बाद में अगली बार और जोर लगाकर के कोशिश जरुर कर सकते है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here