ये एक मन्त्र बदल देता है जीवन, रोज जपने से माँ लक्ष्मी की विशेष कृपा मिलेगी

0
810

माँ लक्ष्मी भगवान नारायण की अर्धांगिनी हैं और धन, शांति और वैभव की देवी मानी जाती हैं। समुद्र मंथन के समय माता समुद्र की लहरों को चीर अवतरित हुई थीं और तभी से इन्हें भगवान विष्णु के चरणकमल में प्रति पल रहने का सौभाग्य चाहे राजा हो या रंक, चाहे अमीर हो या गरीब, हर कोई माता लक्ष्मी का आशीर्वाद पाकर यश और वैभवयुक्त जीवन जीने की इच्छा करता है। हमारे धार्मिक शास्त्रों में ऐसे अनेक श्लोकबद्ध मंत्र एवं सूत्र आदि का वर्णन हैं जिनका निरंतर जाप कर माता का ध्यान करने से माँ को प्रसन्न किया जा सकता है।

कमल पुष्प पर विराजमान माँ लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए जिन मंत्रों का उच्चारण करना चाहिए, उनमें से कुछ मंत्र इस प्रकार हैं, हम कहते है कि इसके साथ में आपको अपना मन भी काफी आस्तिक रखना चाहिए तो ये आपके जीवन को काफी अधिक प्रसन्न रखेंगे.

* ॐ श्रींह्रीं श्रीं कमले कमलालये प्रसीद प्रसीद श्रीं ह्रीं श्रीं ॐ महा लक्ष्मी नम:।।

* ॐ ह्रीं श्री क्रीं क्लीं श्री लक्ष्मी मम गृहे धन पूरये, धन पूरये, चिंताएं दूरये-दूरये स्वाहा:।

* ॐ श्रीं ह्रीं क्लीं श्री सिद्ध लक्ष्म्यै नम:!

* लक्ष्मी नारायण नमः

* ॐ लक्ष्मी नमः

* धनाय नमो नमः

* ॐ धनाय नमः

* पद्मानने पद्म पद्माक्ष्मी पद्म संभवे तन्मे भजसि पद्माक्षि येन सौख्यं लभाम्यहम्।

* ॐ ह्रीं ह्रीं श्री लक्ष्मी वासुदेवाय नम:

* ॐ ह्रीं त्रिं हुं फट

इन मंत्रों का नियमित रुप से जाप करने से पहले श्री गणेश जी का जाप करने से मंत्रोच्चार का लाभ दोगुना हो जाता है और सब प्रकार के विघ्न एवं कष्टों का निवारण भी हो जाता है। इसके उपरांत इन मंत्रों से धन का लाभ, गृहशांति रहती है तथा गृहदोष, क्लेश आदि, दुख- कष्ट आदि से छुटकारा मिलता है।
माँ लक्ष्मी के इन मंत्रों के साथ भगवान विष्णु की आराधना करने वाले से माँ और अधिक प्रसन्न होती हैं तथा उसके साथ साथ भक्त को हरिशरणागत होने का लाभ भी मिलता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here